हिमाचल में स्क्रब टायफस से 5वीं मौत, अब बुजुर्ग की गई जान, 282 पॉजिटिव पाए

स्क्रब टाइफस बीमारी से बचाव के लिए पूरी आस्तीन के कपड़े पहनकर ही खेतों में जाएं, क्योंकि स्क्रब टाइफस फैलाने वाला पिस्सू, शरीर के खूले भागों को ही काटता है. उन्होंने कहा कि घरों के आस-पास खरपतवार इत्यादि न उगने दें व शरीर की सफाई का विशेष ध्यान रखें.

Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 14, 2019, 6:36 PM IST
हिमाचल में स्क्रब टायफस से 5वीं मौत, अब बुजुर्ग की गई जान, 282 पॉजिटिव पाए
आईजीएमसी शिमला पांचवीं मौत हुई है.
Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 14, 2019, 6:36 PM IST
हिमाचल प्रदेश में स्क्रब टायफस (Scrub Typhus) से पांचवीं मौत (Death) हुई है. आईजीएमसी (IGMC) अस्पताल में स्क्रब टाइफस से 73 वर्षीय बुजुर्ग ज्वाला दास की मौत हुई है. स्क्रब टाइफस से पीड़ित यह बुजुर्ग मंडी जिले का रहने वाला था. तेज बुखार के चलते 31 जुलाई से आईजीएमसी में उपचाराधीन था और मंगलवार मध्यरात्रि इसकी मौत हो गई.

IGMC में हुई सारी मौतें
स्क्रब टायफस से अब तक आईजीएमसी में पांच लोगों की मौत हो चुकी है. आईजीएमसी अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक डॉ. जनक राज ने बताया कि स्क्रब टायफस से आईजीएमसी में एक व्यक्ति की मौत हुई है. अस्पताल में स्क्रब टायफस से मरने वालों का आंकड़ा पांच हो गया है. उन्होंने कहा कि साल 2019 में अब तक आईजीएमसी अस्पताल में 570 लोगों के सैंपल लिए गए हैं, जिनमें 16 लोगों के सैंपल पॉजिटिव पाए गए हैं, जबकि पांच मरीजों को इस बीमारी से अपनी जन गंवानी पड़ी है. उन्होंने कहा कि स्क्रब टायफस की चपेट में आने वाले मरीजों के लिए अस्पताल में पर्याप्त मात्रा में दवा उपलब्ध है.

ऐसे फैलती है बीमारी

उन्होंने कहा कि स्क्रब टायफस ज्वर खतरनाक जीवाणु जिसे रिकटेशिया (संक्रमित माइट, पिस्सू) के काटने से फैलता है. उन्होंने लोगों से कहा कि आजकल लगातार बुखार आने पर तुरंत चिकित्सक को दिखाएं और बुखार को हलके में न लें.

इतने मामले सामने आए
स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, हिमाचल प्रदेश में अब तक 3496 लोगों के टेस्ट हुए हैं, जिनमें 282 प़ॉजिटिव पाए गए हैं. बिलासपुर में सबसे अधिक मामले 96, कांगड़ा में 45, हमीरपुर में 62, मंडी में 33, शिमला में 18, सोलन 17, चम्बा में 6, कुल्लू में एक, किन्नौर में एक और सिरमौर में तीन मामले आए हैं.
Loading...

ये ख्याल रखें
स्क्रब टाइफस बीमारी से बचाव के लिए पूरी आस्तीन के कपड़े पहनकर ही खेतों में जाएं, क्योंकि स्क्रब टाइफस फैलाने वाला पिस्सू, शरीर के खूले भागों को ही काटता है. उन्होंने कहा कि घरों के आस-पास खरपतवार इत्यादि न उगने दें व शरीर की सफाई का विशेष ध्यान रखें.

ये भी पढ़ें: सलमान खान की बहन के ससुर BJP से निष्कासित

4 बार दल बदल चुके पूर्व मंत्री अनिल शर्मा अब कहां जाएंगे?

हिमाचल में स्क्रब टायफस से 5वीं मौत, अब बुजुर्ग की गई जान

अपमान से आहत: 93 वर्षीय स्वतंत्रता सैनानी ने तोड़ा अनशन

मंडी वायरल VIDEO की कहानी: Instagram की लड़ाई सड़क तक पहुंची

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 14, 2019, 5:51 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...