प्रदेश में बैंक कर्मियों की हड़ताल का दूसरा दिन, 300 करोड़ के नुकसान का अनुमान

प्रदेश भर में 10 हजार से ज्यादा बैंक कर्मी हड़ताल पर हैं.

प्रदेश भर में 10 हजार से ज्यादा बैंक कर्मी हड़ताल पर हैं.

बैंक कर्मियों की हड़ताल (Bank Strike) के दूसरे दिन भी डीसी ऑफिस के बाहर प्रदर्शन करते हुए केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई. बैंकों की हड़ताल के चलते प्रदेश में कारोबार प्रभावित हुआ है. इन दो दिनों में करीब 300 करोड़ रुपए के नुकसान (Loss of Rs. three hundred crore) का आंकलन किया गया है.

  • Share this:
शिमला. बैंक कर्मियों की हड़ताल (Bank Strike) का आज दूसरा दिन है. आज भी बैंक कर्मियों ने डीसी ऑफिस के बाहर प्रदर्शन करते हुए केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. बैंकों की हड़ताल के चलते प्रदेश में कारोबार प्रभावित हुआ है. इन दो दिनों में करीब 300 करोड़ रुपए के नुकसान (Loss

of Rs. three hundred crore) का आंकलन किया गया है. इस दौरान करोड़ों का लेन-देन भी प्रभावित हुआ है. यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन (United forum of bank union) के पदाधिकारियों ने इसकी पुष्टि की है. फोरम के आह्वान पर ही बैंक कर्मियों से जुड़ी 9 यूनियन हड़ताल पर हैं. देशभर में 10 लाख से ज्यादा और हिमाचल में 10 हजार से ज्यादा कर्मचारी हड़ताल पर हैं.

बैंक कर्मियों की 12 मुख्य मांगें

बैंक कर्मियों की 12 मुख्य मांगों को लेकर हो रही इस हड़ताल में सालों से लंबित वेतन बढ़ोतरी से लेकर पेंशन अपडेशन, मर्जर स्पेशल अलाउंस विद बेसिक पे, न्यू पेंशन स्कीम को खत्म करना, समान वेतन समान काम और दफ्तर में काम करने के समय तक की मांगें शामिल हैं.
यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन के महासचिव गोपाल शर्मा ने कहा कि हड़ताल के बाद से सरकार के रुख में नरमी आई है.


अगले महीने भी करेंगे हड़ताल !

फोरम के महासचिव गोपाल शर्मा ने कहा कि हड़ताल का असर देखने को मिला है. सरकार के रुख में नरमी आई है. उन्होंने कहा कि अगर मांगें नहीं मानी गई तो मार्च महीने में 3 दिन की हड़ताल की जाएगी. उन्होंने कहा कि आगामी 11,12 और 13 मार्च को हड़ताल की जाएगी. अगर इसके बाद भी मांगें पूरी नहीं होती हैं तो 1 अप्रैल के बाद अनिश्चितकालीन हड़ताल की जाएगी.



ये भी पढ़ें - शिमला: खटाई में पड़ सकता है नगर निगम शिमला की ई-विधान बनने वाली योजना

ये भी पढ़ें - वर्तमान के साथ भावी पीढ़ी को ‘मार्गदर्शिका’ बताएगी शिवरात्रि महोत्सव का स्वरूप
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज