लाइव टीवी

कबाड़ बेचना जल निगम को पड़ सकता है महंगा, Vigilance Enquiry की मांग

Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: October 22, 2019, 7:31 PM IST
कबाड़ बेचना जल निगम को पड़ सकता है महंगा, Vigilance Enquiry की मांग
शिमला जल प्रबंधन निगम ने पिछले दिनों नगर निगम की अनुमति के बिना करोड़ों का कबाड़ लाखों में बेच डाला है.

शिमला जल प्रबंधन निगम द्वारा कबाड़ बेचने का मामला गहराता जा रहा है. नगर निगम शिमला ने जल प्रबंधन निगम के खिलाफ विजिलेंस जांच की मांग की है.

  • Share this:
शिमला. शिमला जल प्रबंधन निगम (SHimla jal Prabandhan Nigam) द्वारा कबाड़ (Garbage) बेचने का मामला गहराता जा रहा है. कबाड़ बेचने के मामले पर नगर निगम शिमला (Shimla Municipal Corporation) ने अब शिमला जल प्रबंधन निगम के खिलाफ विजिलेंस (Vigilance enquiry) से जांच की मांग की है. गौरतलब है कि शिमला जल प्रबंधन निगम ने पिछले दिनों नगर निगम की अनुमति के बिना करोड़ों का कबाड़ लाखों में बेच डाला है, जिसकी भनक निगम को लगते ही निगम ने जल प्रबंधन निगम से जबाब मांगा था. जल निगम के जबाव से नगर निगम असंतुष्ट दिखाई दे रहा है और अब इस मामले पर विजिलेंस जांच की मांग कर रहा है.

नगर निगम मेयर कुसुम सदरेट ने बताया कि जिस कबाड़ को नगर निगम शिमला ने वर्षों से संभाल कर रखा था, उसे शिमला जल निगम ने डेढ़ साल के भीतर निगम की बिना अनुमति के बेच डाला है.

जल निगम को कबाड़ बेचने की क्या जरूरत आन पड़ी थी: मेयर, शिमला एमसी

कुसुम सदरेट ने कहा कि मुझे नहीं पता कि जल निगम को ऐसी क्या आवश्यकता आ पड़ी, जिसके लिए उन्होंने इस कबाड़ को बेच डाला है. उन्होंने बताया कि हाल ही में निगम की मासिक बैठक में कबाड़ बेचने के मामले पर हंगामा देखने को मिला है. अब जल्द ही निगम की विशेष बैठक में पानी की दरों और कबाड़ मामले पर चर्चा की जाएगी और विजिलेंस जांच की मांग कर दोषी अधिकारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की जाएगी.

Kusum Sadret
शिमला नगर निगम की मेयर कुसुम सदरेट मुझे नहीं पता जल निगम को कबाड़ बेचने की क्या जरूरत आन पड़ी थी.


निगम ने इस मामले में एसजेपीएनएल से रिपोर्ट मांगी है

गौरतलब है कि पिछले माह के आखिर में हुए नगर निगम के सदन में भी यह मामला गूंजा था. इस दौरान भी पार्षदों ने इस मामले की जांच के मांग उठाई थी. इस दौरान नगर निगम के अधिकारियों की ओर से कहा गया था कि निगम ने इस मामले में एसजेपीएनएल से रिपोर्ट मांगी है. रिपोर्ट आने के बाद नगर निगम की ओर से अगली कार्रवाई की जाएगी. ऐसे में अब नगर निगम की ओर से स्पेशल हाउस में इस मामले पर चर्चा की जाएगी. चर्चा के बाद नगर निगम की ओर से इस मामले पर सरकार से विजिलेंस जांच करवाने की तैयारी की जा रही है.
Loading...

ये भी पढ़ें: हिमाचल: चंडीगढ़-मनाली हाईवे पर 15 किमी लंबा जाम, एंबुलेंस सहित कई वाहन फंसे

VIDEO: मनाली में हाईवे पर भिड़ी पिकअप-कार, चालक की मौत, हादसा CCTV में कैद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 7:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...