शिमला बस हादसा: मान्या ने एग्जाम के लिए खूब की थी तैयारी, लेकिन नहीं पहुंच सकी स्कूल

जानकारी के अनुसार, सोमवार को खलीणी के झंझीडी में यह सड़क संकरी थी. अवैध पार्किंग की वजह से जब ड्राइवर बस को निकाल रहा था, तो जगह कम होने की वजह से बस 500 मीटर नीचे लुढ़कती चली गई है.

News18 Himachal Pradesh
Updated: July 2, 2019, 10:30 AM IST
शिमला बस हादसा: मान्या ने एग्जाम के लिए खूब की थी तैयारी, लेकिन नहीं पहुंच सकी स्कूल
मां के साथ मेहुल. (फाइल फोटो)
News18 Himachal Pradesh
Updated: July 2, 2019, 10:30 AM IST
हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में हुए स्कूल बस हादसे ने एक बार फिर से पूरे प्रदेश को झकझोर दिया है. हादसे में शिमला के चेल्सी स्कूल की मान्या (15) और मेहुल (13) की मौत हो गई. मान्या का सोमवार को स्कूल में एग्जाम था, लेकिन वह स्कूल नहीं पहुंची.

दोनों बेटियां घटनास्थल से महज 30 मीटर दूर ही बस में बैठी थी. एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, परिजनों ने बताया कि पेपर के लिए संडे को मान्या ने खूब तैयारी की थी. मान्या के पिता सोलन में सरकारी स्कूल में लेक्चरर और मां भी सरकारी टीचर हैं. मान्या की मां आईजीएमसी पहुंची तो उन्हें बताया नहीं गया कि उनकी बेटी अब दुनिया में नहीं रही. वह घायलों में अपनी बेटी को ढूंढती रही. मान्या के पड़ोसी वकील कुलभूषण खजुरिया ने बताया कि मान्या हर रोज की तरह ही उस स्टॉपेज से छह और बच्चियों के साथ बस में बैठी थी.

मेहुल के पिता गए थे चौपाल
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मेहल के पिता व्हॉटसएप पर हादसे की जानकारी मिली थी. मेहल पांटा के पापा बृजमोहन पांटा रविवार को अपने घर चौपाल गए थे. मां को केवल इतना पता चला कि जिस बस में बच्ची को बिठाया था, वह हादसे का शिकार हो गई है. रोती बिलखती मां आईजीएमसी पहुंची. मेहल के पिता पेशे से बिल्डर हैं.

नाना नहीं जुटा पाए हिम्मत
मेहुल के नाना मोहन सिंह वर्मा के अनुसार, उनकी नातिन की मौत हो चुकी है, मगर अब वह यह बात अपनी बेटी को कैसे बताएं? आंध घंटे से वह आईजीएमसी में इमरजेंसी में बाहर खड़े रहे, मगर अंदर जाने तक की हिम्मत नहीं जुटा पाए. उनका कहना था कि भगवान ऐसा दिन किसी को न दिखाए.गौरतलब है कि हादसे में मारे गए ड्राइवर नरेश सोलन के रहने वाले थे वह कांट्रेक्ट पर भर्ती हुए थे. घटनास्थल से एक बार बस गुजर चुकी थी. वापसी में हादसे का शिकार हुई है.

अवैध पार्किंग की वजह से हादसा
Loading...

जानकारी के अनुसार, खलीणी के झंझीडी में यह सड़क संकरी थी. अवैध पार्किंग की वजह से जब ड्राइवर बस को निकाल रहा था, तो जगह कम होने की वजह से बस 500 मीटर नीचे लुढ़कती चली गई है. काफी नीचे गिरने के बाद ड्राइवर समेत दो बच्चियों की मौत हो गई है. हादसे के बाद स्थानीय लोगों ने मौके पर सड़क किनारे खड़ी गाड़ियों पर अपना गुस्सा फोड़ा और इस दौरान बड़ी संख्या में गाड़ियों के शीशे लोगों ने तोड़ दिए. सड़क भी जाम कर दी गई.

ये भी पढ़ें: HRTC स्कूल बस हादसा: खटारा थी बस, इंश्योरेंस हो चुका था खत्म

हिमाचल में 10 दिन में बड़े सड़क हादसे, 57 लोगों की मौत

शिमला और नरपुर स्कूल बस हादसे पर HC में सुनवाई आज

मृतकों के परिजनों को 5 लाख का मुआवजा देगी जयराम सरकार

पुलिस से मारपीट और वर्दी फाड़ने के मामले में तीन गिरफ्तार

सरकार की नींद टूटी, शिमला में अवैध पार्किंग पर होगी कार्रवाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 2, 2019, 10:15 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...