जानिए, क्या है शिमला शहर की दशकों पुरानी पहचान

प्रदेश की राजधानी शिमला देश का ऐसा अपने आप में पहला शहर है जहां पर वाहनों के लिए अलग सड़क व्यवस्था का प्रावधान है.

G.S. Tomar | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 24, 2019, 9:28 PM IST
जानिए, क्या है शिमला शहर की दशकों पुरानी पहचान
शिमला - शहर के अधितकर क्षेत्र में पैदल जाने का किया गया है प्रावधान
G.S. Tomar
G.S. Tomar | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 24, 2019, 9:28 PM IST
प्रदेश की राजधानी शिमला देश का ऐसा अपने आप में पहला शहर है जहां पर वाहनों के लिए अलग सड़क व्यवस्था का प्रावधान है. दशकों पुरानी यह सड़क व्यवस्था शिमला शहर को देशभर में अलग पहचान दिलाती है. लेकिन शिमला शहर को अलग पहचान दिलाती यह सड़क व्यवस्था इन दिनों शासन-प्रशासन के लिए गले की फांस बन चुकी है. हाईकोर्ट का ताजा आदेश भले ही शहर की इस खास पहचान को बनाए रखने में अहम हो, लेकिन वकीलों के विरोध से इस व्यवस्था को लेकर बहस छिड़ गई है. हाईकोर्ट के ताजा आदेश के बाद राजधानी शिमला के सील्ड और रिस्ट्रिक्टेड रोड पर बिना परमिट वाहनों की आवाजाही पर पूर्णत: प्रतिबंध लग गया है. ट्रैफिक पुलिस इन सड़कों पर आने वाले वाहनों को चेक कर रही है और चालान भी काट रही है.

हाईकोर्ट के आदेश का पालन

ट्रैफिक पुलिस की मुस्तैदी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सेना और अधिकारियों की वाहनों को भी रोका जा रहा है. शहर के सभी चौराहों पर पुलिस के जवान खड़े हैं और आदेश के अनुपालन में किसी भी तरह की कसर नहीं छोड़ रहे हैं.

आपको बता दें कि शिमला शहर की पहचान बचाए रखने के पक्षधर हाईकोर्ट के आदेश का स्वागत कर रहे हैं. इन लोगों का कहना है कि सील्ड रोड पर चलना मुश्किल हो रहा है और कभी भी वाहन पैदल चलने वालों को टक्कर मार सकते हैं. ऐसे में हाईकोर्ट का फैसला सही है. लेकिन दूसरी तरफ हाईकोर्ट के आदेश से प्रभावित हुए लोग विरोध भी जता रहे हैं.

ये भी देखें - श्रीखंड महादेव:ईशानी ने बर्फ में नंगे पांव की 35Km की यात्रा

ये भी पढ़ें - हिमाचल में मॉनसून: आज से दो दिन तक भारी बारिश की चेतावनी
First published: July 24, 2019, 9:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...