Assembly Banner 2021

विधानसभा के बजट सत्र में हंगामा के लिए कांग्रेस ने सरकार को ठहराया जिम्मेवार, कार्रवाई की उठाई मांग

कांग्रेस के विधायक सुखविंदर सिंह सुक्खू शिमला में पार्टी दफ्तर में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए

कांग्रेस के विधायक सुखविंदर सिंह सुक्खू शिमला में पार्टी दफ्तर में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए

कांग्रेस विधायकों के निलंबन को पार्टी के नेता सुखविंदर सिंह सुक्खू ने एकतरफा कार्रवाई करार देते हुए वीडियो में धक्का-मुक्की करते दिख रहे डिप्टी स्पीकर हंसराज और सत्ता पक्ष के अन्य लोगों पर कार्रवाई की मांग की

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 28, 2021, 4:58 PM IST
  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश विधानसभा (Himachal Pradesh Assembly) में बजट सत्र (Budget Session) के दौरान शुक्रवार को हुए हंगामे, धक्का-मुक्की और नोंक-झोंक के पूरे घटनाक्रम के लिए कांग्रेस ने जयराम सरकार को जिम्मेवार ठहराया है. इस मामले को लेकर रविवार को शिमला (Shimla) स्थित कांग्रेस मुख्यालय में विधायक और पूर्व पीसीसी चीफ सुखविंदर सिंह सुक्खू (Sukhvinder Singh Sukkhu) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सरकार को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया और कई सवाल पूछे. सुक्खू के साथ विधानसभा से निलंबित विधायक सतपाल रायजादा भी मौजूद थे.

सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि पूरी घटना खेदजनक है लेकिन इसके लिए सरकार जिम्मेवार है. उन्होंने कहा कि अभिभाषण को छोटा करना था, कुछ और बात होती तो सदन के नेता प्रतिपक्ष को बुलाया जा सकता था. उनके साथ बैठक की जा सकती थी और आम सहमति बनाई जा सकती थी. लेकिन सरकार ने ऐसा नहीं किया. कांग्रेस विधायकों के निलंबन को सुक्खू ने एकतरफा कार्रवाई करार देते हुए वीडियो में धक्का-मुक्की करते दिख रहे डिप्टी स्पीकर हंसराज और सत्ता पक्ष के अन्य लोगों पर कार्रवाई की मांग की. उन्होंने सदन की गरिमा का हवाला देते हुए विधानसभा अध्यक्ष से भी इस मामले में उचित कार्रवाई की मांग की. उन्होंने कहा कि अगर कोई कार्रवाई नहीं हुई तो विधानसभा के नियमों और कानून के अन्य पहलुओं पर वरिष्ठ वकीलों की मदद लेकर आगामी कार्रवाई करेंगे.

सुक्खू ने कहा कि इस तरह के प्रदर्शन का कांग्रेस के विधायकों का कोई इरादा नहीं था. कांग्रेस विधायक अपने विरोध करने और प्रदर्शन के अधिकार के तहत ही विरोध जता रहे थे. साथ ही कहा कि राज्यपाल सम्मानीय हैं, उनकी गरिमा का कांग्रेस हमेशा से सम्मान करती आई है. राज्यपाल के अपमान का मकसद कतई नहीं था और न कभी रहेगा.



उन्होंने कहा कि आगामी रणनीति के तहत सोमवार को दोपहर एक बजे कांग्रेस विधायक दल की बैठक होगी. सरकार के खिलाफ आगे किस तरह से लड़ाई लड़ी जाएगी, इस पर फैसला लिया जाएगा. साथ ही उन्होंने कहा कि विपक्ष सदन में चर्चा चाहता है और जनहित से जुड़े मुद्दों को सदन के सभा पटल पर पुरजोर तरीके से उठाया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज