लाइव टीवी

55 दिन बाद खुला शिमला का Indian Coffee House, मोदी भी हैं इसके फैन
Shimla News in Hindi

News18Hindi
Updated: May 20, 2020, 9:37 AM IST
55 दिन बाद खुला शिमला का Indian Coffee House, मोदी भी हैं इसके फैन
शिमला के इंडियन कॉफी हाउस के बाहर कॉफी पीते पीएम मोदी. तस्वीर 27 दिसंबर 2017 की है. (FILE PHOTO)

Shimla Indian Coffee House : मंगलवार को भी लोगों ने कॉफी हाउस के सामने बेंच पर और तारघर के समीप रेन शेल्टर में बैठकर कॉफी का आनंद लिया. लोगों ने मांग उठाई की कॉफी हाउस के भीतर सामाजिक दूरी के साथ बैठने की इजाजत हो.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला (Shimla) में अब दुकानें आठ घंटे के लिए खुलेंगी. कर्फ्यू की बीच ढील के समय में एक घंटे का इजाफा किया गया है. हालांकि, यहां ज्यादा छूट नहीं दी गई है. शिमला के मॉल रोड पर दुकानें खुल गई हैं. लेकिन सैलानियों (Tourist) से गुलजार रहने वाली पहाड़ों की रानी शिमला में पहले जैसी रौनक अभी नहीं है.

55 दिन दिन बाद खुला इंडियन कॉफी हाउस
लॉकडाउन के चलते 23 मार्च से कॉफी हाउस बंद था. हालांकि, अब कॉफी हाउस  खुल गया है, लेकिन, भीतर बैठकर खाने-पीने की इजाजत नहीं है. लोगों को मिट्टी के कप की जगह डिस्पोजेबल कप में कॉफी दी जा रही है. मंगलवार को भी लोगों ने कॉफी हाउस के सामने बेंच पर और तारघर के समीप रेन शेल्टर में बैठकर कॉफी का आनंद लिया. लोगों ने मांग उठाई की कॉफी हाउस के भीतर सामाजिक दूरी के साथ बैठने की इजाजत हो.

पांच करोड़ का नुकसान



कॉफी हाउस के मैनेजर भगत राम ने बताया कि काफी हाउस सोसाइटी 5 करोड़ के नुकसान में हैं. उन्होंने बताया कि कर्मचारियों की सैलरी में दो करोड़ रुपये दिए जाते हैं. अब खर्चा वही है, जबकि इनकम फिलहाल जीरो है. उन्होंने बताया कि लोगों ने मांग कि है कि काफी हाउस में बैठने की इजाजत दी जाए. मौजूदा समय में 44 कर्मचारियों में से 6 ही ड्यूटी पर बुलाए हैं. सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल रखा जा रहा है.



मोदी भी हैं काफी हाउस के दिवाने
पीएम नरेंद्र मोदी भी यहां की कॉफी के मुरीद हैं. हिमाचल में नए सरकार के गठन पर 27 दिसंबर 2017 में जब मोदी शिमला आए थे तो उन्होंने कॉफी हाउस के सामने अपना काफिला रुकवाकर यहां कॉफी का आनंद लिया था. इंडियन कॉफी हाउस में कॉफी बनाने के लिए बंगलूरू से कॉफी बीनस आते हैं. टूरिस्ट सीजन में यहां रोजाना सवा लाख रुपये सेल होती है. यहां एक दिन में 700 से 800 कप कॉफी बनाई जाती है.

ये भी पढें: मंडी: स्वर्ण जाति वालों के खेत में चली गई गाय तो दलित लड़की की कर दी पिटाई

कांगड़ा: पानी के टैंक में मिली लापता युवती की लाश, दो माह पहले हुई थी शादी
First published: May 20, 2020, 9:10 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading