लाइव टीवी

हिमाचल के सामाजिक कार्यकर्ता ने कहा- मुझे बनाओ तिहाड़ का जल्लाद, दूंगा निर्भया के दोषियों को फांसी

Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 4, 2019, 12:17 PM IST
हिमाचल के सामाजिक कार्यकर्ता ने कहा- मुझे बनाओ तिहाड़ का जल्लाद, दूंगा निर्भया के दोषियों को फांसी
रवि कुमार ने कहा कि वे देशभर में हो रही दुष्कर्म की घटनाओं से काफी आहत हैं.

Hyderabad Gang rape: शिमला के संजौली में रवि कुमार 20 साल से सब्जी की दुकान चलाते हैं. वह आरटीआई और सामाजिक कार्यकर्ता भी हैं. कई साल से सामाजिक कार्यों में जुटे हुए हैं.

  • Share this:
शिमला. हैदराबाद गैंगरेप (Hyderabad Gang rape) के बाद देश में महिलाओं के अपराध के खिलाफ काफी गुस्सा है. वहीं, 2012 के निर्भया कांड (Nirbhaya Gang rape Case) के दोषियों को फांसी (Hanging) अभी दी जानी है. इसी बीच चर्चा है कि तिहाड़ जेल (Tihar Jail) में जल्लाद न होने चलते दोषियों की फांसी में देरी हुई है. इसको लेकर शिमला (Shimla) के सामाजिक कार्यकर्ता और सब्जी विक्रेता रवि कुमार ने इस संबंध में राष्ट्रपति (President) को चिट्टी लिखी है. उन्होंने राष्ट्रपति से तिहाड़ जेल में उन्हें जल्लाद के पद पर नियुक्ति देने की मांग की है.

खुशी से करूंगा ये काम
न्यूज18 के संवाददात ने जब उनसे पूछा कि क्या यह काम आप मीडिया में सुर्खियां पाने के लिए कर रहे हैं तो उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है, मैं यह काम हंसते-हंसते और खुशी से करूंगा, क्योंकि इन घटनाओं से मैं काफी आहत हूं.

राष्ट्रपति को लिखी गई चिट्टी.
राष्ट्रपति को लिखी गई चिट्टी.


क्या लिखा चिट्ठी में
रवि कुमार ने चिट्ठी में लिखा कि उन्हें न्यूज चैनलों के जरिये जानकारी मिली है कि तिहाड़ जेल फांसी देने के लिए जल्लाद नहीं है, जिसके चलते निर्भया केस के दोषियों को फांसी नहीं दी जा रही है. इस घटना को पूरे सात साल गुजर गए हैं. निचली अदालत से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक ने फांसी की सजा सुनाई है. एक तरफ पूरा देश निर्भया के दोषियों को फांसी देने की मांग कर रहा है, दूसरी तरफ, देश की सबसे बड़ी तिहाड़ जेल प्रशासन के पास जल्लाद नहीं है. रवि कुमार ने राष्ट्रपति से मांग की है कि उन्हें तिहाड़ जेल में स्थाई जल्लाद की नियुक्ति दी जाए, ताकि इंसाफ के लिए तरस रही निर्भया की आत्मा को शांति मिल सके.

कौन हैं रवि कुमार दलितशिमला के संजौली में रवि कुमार 20 साल से सब्जी की दुकान चलाते हैं. वह आरटीआई और सामाजिक कार्यकर्ता भी हैं. कई साल से सामाजिक कार्यों में जुटे हुए हैं. कई जन-आंदोलनों में भी सक्रिय भूमिका में नजर आते हैं. बता दें कि 2012 के विधानसभा चुनावों में रवि कुमार शिमला ग्रामीण सीट से वीरभद्र सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ चुके हैं. उन्हें 800 के करीब वोट मिले थे. इसके अलावा, रवि कुमार हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में शिमला सीट से चुनाव लड़े थे.

ये भी पढे़ं: हिमाचल के बिलासपुर में डिग्री क़ॉलेज की तीसरी मंजिल से कूदी छात्रा, IGMC रेफर

पहले जहर निगला, फिर खुद को आग लगाकर किया सुसाइड, बचाते हुए बेटा घायल

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 4, 2019, 11:56 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर