लाइव टीवी

शिमला MC हुआ सख्त, IGMC डॉक्टर हाउसिंग बोर्ड सोसायटी को भेजा नोटिस

Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: October 17, 2019, 7:02 PM IST
शिमला MC हुआ सख्त, IGMC डॉक्टर हाउसिंग बोर्ड सोसायटी को भेजा नोटिस
शिमला नगर निगम ने आईजीएमसी डॉक्टर हाउसिंग बोर्ड सोसायटी को नोटिस जारी किया है.

शिमला नगर निगम ने आईजीएमसी डॉक्टर हाउसिंग बोर्ड सोसायटी को सैक्शन 101 के तहत नोटिस जारी किया है. सोसायटी पर 5 प्रतिशत पैनल्टी के साथ एक माह के भीतर टैक्स जमा करने का फरमान जारी किया है.

  • Share this:
शिमला. राजधानी शिमला में प्रॉपर्टी टैक्स डिफॉल्टरों (Property Tax Defaulter) के खिलाफ नगर निगम सख्त हो गया है. वर्षों से प्रॉपर्टी टैक्स जमा नहीं करने वाले डिफॉल्टरों को नगर निगम शिमला (Shimla Municipal Corporation) ने एक बार फिर से नोटिस भेजे हैं. प्रॉपर्टी टैक्स की करोड़ों रुपए की चोरी पर नगर निगम ने पंथाघाटी स्थित आईजीएमसी डॉक्टर हाउसिंग बोर्ड सोसायटी को सैक्शन 101 के तहत नोटिस जारी किया है. इसके अलावा सोसायटी पर 5 प्रतिशत पैनल्टी (penalty) के साथ एक माह के भीतर टैक्स जमा करने का फरमान जारी किया है. यह बताया जा रहा है सोसायटी की ओर से नगर निगम को वर्ष 2009 से प्रॉपर्टी टैक्स का सेल्फ असैसमेंट फॉर्म भरकर नहीं दिया गया है. शिमला नगर निगम को इस सोसायटी से डेढ करोड़ रुपए प्रॉपर्टी टैक्स के बतौर बकाये की वसूली करनी है.

सोसायटी को टैक्स चोरी के मामले जारी किया गया नोटिस

नगर निगम के कर विभाग के अधिकारियों द्वारा वीरवार को किए गए औचक निरीक्षण के दौरान यह खुलासा हुआ कि डॉक्टर हाउसिंग बोर्ड सोसायटी ने प्रॉपर्टी टैक्स नहीं जमा कराए हैं. पंथाघाटी में निर्माणाधीन डॉक्टर सोसायटी में 123 फ्लैट्स बनाए जा रहे हैं, लेकिन सोसायटी की ओर से पिछले 11 सालों से शिमला नगर निगम को प्रॉपर्टी टैक्स का सेल्फ असैंसमेंट ई-फार्म भरकर नहीं दिया गया है. ऐसे में टैक्स चोरी के मामले पर सोसायटी को नोटिस जारी किया गया है.

Shimla
सोसायटी की ओर से पिछले 11 सालों से शिमला नगर निगम को प्रॉपर्टी टैक्स का सेल्फ असैंसमेंट ई-फार्म भरकर नहीं दिया गया है.


5 प्रतिशत पैनल्टी के साथ एक फीसदी ब्याज भी वसूलेगा निगम

वीरवार को नगर निगम की टीम ने इन फ्लैट्स का निरीक्षण किया. इस दौरान पता चला कि सोसायटी की ओर से अब तक निगम को प्रॉपर्टी टैक्स की अदायगी नहीं की गई है. इसके चलते निगम को पिछले कई सालों से करोड़ों रुपए का चूना लग रहा है. ऐसे में प्रशासन ने हरकत में आते हुए वीरवार को सोसायटी को नोटिस जारी कर दिया है. नगर निगम प्रशासन ने नगर निगम अधिनियम 1994 के सेक्शन 101 के नोटिस जारी करने साथ ही 5 प्रतिशत पैनल्टी और 1 प्रतिशत ब्याज की दर से टैक्स वसूली के आदेश जारी किए हैं.

यह भी पढ़ें: पैसे बांटने के आरोप पर बोले धूमल-हार के डर से कांग्रेस कुछ भी कह रही है
Loading...

शराब की लत ने ली 28 वर्षीय युवक की जान, RTO दफ्तर के पास मिली लाश

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 17, 2019, 6:58 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...