PM ने CM से बात कर हिमाचल में कोरोना की स्थिति का लिया जायजा, 4 जिलों में लग सकता है टोटल लॉकडाउन!

कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए हिमाचल सरकार अन्य प्रदेशों से लगने वाले चार सीमावर्ती जिलों में संपूर्ण लॉकडाउन पर विचार कर रही है (फाइल फोटो)

कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए हिमाचल सरकार अन्य प्रदेशों से लगने वाले चार सीमावर्ती जिलों में संपूर्ण लॉकडाउन पर विचार कर रही है (फाइल फोटो)

कोरोना (Corona Virus) के लगातार बढ़ते संक्रमण के चलते हिमाचल सरकार चार जिलों में संपूर्ण लॉकडाउन (Total Lockdown) लगाने पर विचार कर रही है. अन्य राज्यों के साथ लगते कांगड़ा, ऊना, सिरमौर और सोलन जिले में लॉकडाउन पर सरकार जल्द फैसला ले सकती है

  • Share this:

शिमला. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस (Corona Virus) की स्थिति का जायजा लिया है. शनिवार को पीएम मोदी (PM Modi) ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर (Jairam Thakur) को फोन कर संक्रमित मरीजों की संख्या, अस्पतालों में दी जा रही सुविधाओं, ऑक्सीजन की उपलब्धता और सरकार की ओर उठाए जा रहे कदमों के बारे में जानकारी ली. साथ ही उन्होंने राज्य में चल रहे टीकाकरण (Vaccination) अभियान के बारे में भी जाना. सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि प्रधानमंत्री का फोन आया था, उन्हें मौजूदा स्थिति के बारे में पूरी जानकारी दी गई. केसों की संख्या, पॉजिटिविटी रेट, मृत्यु दर को लेकर चर्चा हुई.

सीएम जयराम ने कहा कि प्रधानमंत्री ने संकट की इस घड़ी में हिमाचल को हरसंभव सहायता देने का आश्वासन दिया. उन्होंने कहा कि हमने पीएम से ऑक्सीजन के खाली सिलेंडरों की मांग की है. हिमाचल में कोविड मरीजों को ऑक्सीजन की कमी नहीं है लेकिन डॉक्टरों का कहना है कि खाली सिलेंडरों की भारी कमी है. रेमडेसिविर दवाई के संबंध में मुख्यमंत्री ने कहा कि पीएम मोदी ने उन्हें बताया कि डॉक्टरों के मुताबिक सभी मरीजों को इस दवाई की जरूरत नहीं है, इसे लेकर उन्होंने लोगों को जागरूक करने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि संक्रमण को रोकने के लिए सख्त कदम उठाने के निर्देश दिए हैं.

कोरोना के लगातार बढ़ते संक्रमण के चलते हिमाचल सरकार चार जिलों में संपूर्ण लॉकडाउन लगाने पर विचार कर रही है. अन्य राज्यों के साथ लगते कांगड़ा, ऊना, सिरमौर और सोलन जिले में लॉकडाउन पर सरकार जल्द फैसला ले सकती है. पीएम मोदी ने मुख्यमंत्री के साथ हुई बातचीत में इस बात पर बल दिया कि गरीब आदमी का ख्याल रखना होगा कि उन्हें कड़े फैसलों से नुकसान न हो. साथ ही प्रधानमंत्री ने राज्य का ऑक्सीजन कोटा 30 मीट्रिक टन बढ़ाने के भी निर्देश दिए.

सीएम जयराम ने माना कि प्रदेश में कोरोना मरीजों की मौत का एक मुख्य कारण उनका अस्पताल में देरी से पहुंचना और कोरोना के साथ अलग बीमारियों से ग्रसित होना है. उन्होंने कहा कि इस देरी को कम करने का प्रयास किया जा रहा है, और लोगों से आग्रह किया जा रहा है कि कोरोना के लक्षण दिखते ही वो अपने नजदीकी चिकित्सा केंद्रों में जाकर जांच करवाएं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज