अपना शहर चुनें

States

केंद्रीय स्वच्छता सर्वे टीम फिर आएगी शिमला, रैकिंग सुधारने के लिए निगम ने कसी कमर

पंकज राय ,निगम आयुक्त शिमला
पंकज राय ,निगम आयुक्त शिमला

स्वच्छता सर्वेक्षण के महत्वपूर्ण कम्पोनेंट सोर्स सेग्रीगेशन की जांच के लिए केंद्रीय स्वच्छता टीम जल्द ही दोबारा शिमला का दौरा करेगी. इसके तहत घरों से गीला व सूखा कचरा नगर निगम अलग-अलग उठा रहा है, इसकी पड़ताल की जाएगी.

  • Share this:
स्वच्छता सर्वेक्षण के महत्वपूर्ण कम्पोनेंट सोर्स सेग्रीगेशन की जांच के लिए केंद्रीय स्वच्छता टीम जल्द ही दोबारा शिमला का दौरा करेगी. केंद्रीय टीम इससे पहले शिमला का दौरा कर शहर की स्वच्छता का जायजा ले चुकी है. सोर्स सेग्रीगेशन की जांच के लिए टीम फिर से शिमला आएंगी. इसके तहत घरों से गीला व सूखा कचरा नगर निगम अलग-अलग उठा रहा है, इसकी पड़ताल की जाएगी. सर्वेक्षण का यह महत्पवूर्ण मानक है. इस कम्पोनेंट पर खरा उतरने पर नगर निगम शिमला को सर्वेक्षण में सीधे ही एक हजार अंक मिलेगे और यदि इस कम्पोनेट में शिमला फेल होता है तो सर्वेक्षण में शिमला शहर सीधे ही 50 पायदान नीचे खिसक जाएगा. शिमला को एक हजार अंक में से केवल केवल 400 अंक ही मिलेंगे जिससे शिमला शहर की स्वच्छता रैकिंग का ग्राफ गिर सकता है. ऐसे में नगर निगम ने गारबेज सेग्रीगेशन को लेकर कमर कस ली है.

निगम आयुक्त ने वीरवार को स्वास्थ्य शाखा व सैहब कर्मचारियों के साथ विशेष बैठक कर गारबेज कलेक्टरों, सुपरवाईजरों को सख्त दिशा निर्देश जारी किए है. इसके तहत घरों से गीला व सूखा कचरा अलग अलग उठाने के निर्देश दिए गए हैं. निगम आयुक्त ने बताया कि गारबेज सेग्रीगेशन के लिए नगर निगम की ओर से गारबेज कलेक्टरों को दो अलग अलग बैग दिए गए है जिसमें गीला व सूखा कचरा उठाया जा रहा है.

नगर निगम ने सेवन स्टार रेटिंग के तहत शिमला को गारबेज फ्री सिटी घोषित किया है. इसके तहत केंद्रीय टीम गारबेज सेग्रीगेशन की जांच करेगी. इसके साथ सिटीजन फीडबैक लेगी. ऐसे में नगर निगम प्रशासन ने शहर की आम जनता से गारबेज सेग्रीगेशन में सहयोग देने की अपील की है ताकि शिमला की स्वच्छता रैकिंग में सुधार लाया जा सके.



स्वच्छता सर्वेक्षण में इस बार शिमला शहर का मुकाबला देशभर के 4 हजार 41 शहरों के साथ है. सर्वेक्षण के विभिन्न प्रमुख मानकों के 5 हजार अंक होंगे, जिसमें से स्वच्छ शहरों की रैकिंग तैयार की जाएगी. सर्वेक्षण के कुल 14 मानक है, जिनपर खरा उतरने के बाद स्वच्छ शहरों की लिस्ट तैयार की जाएगी.
यह भी पढ़ें: भारी बर्फबारी से लदे हिमाचल के पहाड़, कई इलाकों में वर्षों बाद हिमपात

महिला को फेसबुक पर दोस्ती करना पड़ा महंगा, 10.35 लाख रुपये लुटाए
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज