शिमला में पानी के बिलों को लेकर होटलियर पर मेहरबान हुआ शिमला जल प्रबंधन निगम

शिमला जल प्रबंधन निगम ने शहर के सभी होटल व्यवसायियों पर मेहबानी दिखाते हुए चार किश्तों में पानी का बिल जमा करने की छूट प्रदान की है.

Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: March 16, 2019, 4:10 PM IST
शिमला में पानी के बिलों को लेकर होटलियर पर मेहरबान हुआ शिमला जल प्रबंधन निगम
सांकेतिक तस्वीर
Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: March 16, 2019, 4:10 PM IST
हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में पानी के बिलों को लेकर एक ओर जहां आम जनता परेशान दिखाई दे रही हैं, वहीं शहर के होटल व्यवसायियों के लिए शिमला जल प्रबंधन निगम मेहरबानी दिखा रहा है. जल प्रबंधन निगम ने शहर के सभी होटल व्यवसायियों पर मेहबानी दिखाते हुए चार किश्तों में पानी का बिल जमा करने की छूट प्रदान की है. वहीं दूसरी तरफ शहरवासियों को अपने पानी के बिलों को लेकर निगम कार्यालय के कई चक्कर लगाने के बाद भी पानी के बिल नहीं मिल रहे हैं. लोगों को मजबूरन पानी के बिलों के लिए खुद ही निगम कार्यालय में आकर पानी के बिल लेने पड़ रहे हैं और बिल लेने के बाद भी एक माह के भीतर बिल जमा करने की हिदायत दी जा रही है.

शिमला के लोगों का कहना है कि जब से पानी वितरण के लिए शिमला जल निगम का गठन किया है, तब से शहरवासियों को एक भी बार पानी का बिल नहीं मिला है. पानी के जो भी बिल आ रहे हैं, वे भी बिना किसी मीटर रीडिंग के दिए जा रहे हैं. जाहिर सी बात है कि इससे शहरवासियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

दूसरी ओर जल निगम व्यवसायिक पेयजल उपभोक्ताओं को बड़ी राहत प्रदान की है. इसके अंतर्गत व्यवसायिक उपभोक्ताओं को चार किश्तों में एक-एक महीने के अंतराल के बाद बिल जमा करवाने की सुविधा प्रदान की है. इसके लिए उपभोक्ताओं को 4 चैक कंपनी को देने होंगे. जल निगम किश्तों में पानी के बिल जमा करने पर उपभोक्ताओं से किसी भी तरह का सरचार्ज वसूल नहीं करेगा.



जल निगम के एमडी धर्मेन्द्र गिल ने बताया कि पानी के बिल का डाटा इस माह के अंत तक ऑनलाइन फीड कर दिया जाएगा. इसके बाद शहरवासी ऑनलाइन ही पानी के बिल जमा कर पाएंगे.

उन्होंने बताया कि शहर के सभी होटल व्यवसायियों के साथ पानी के बिल को लेकर बैठक हुई थी जिसमें पानी के बिल को जमा करने के लिए राहत प्रदान कि है जिसमें सभी व्यवसायिक बिलों को किश्तों में जमा किए जा सकते हैं.

यह भी पढ़ें: कुल्लू घाटी में अच्छी बारिश के चलते लहसुन और मटर की बंपर पैदावार की उम्मीद

 बेटे ने एक्सीडेंट में मौत से पहले मां से फोन पर कहा-'खाना खाने ढाबा जा रहा हूं'
Loading...

कुल्लू में तेंदुओं का आतंक, अब तक दर्जनों कुत्तों और खच्चरों का किया शिकार
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...