लाइव टीवी

हिमाचल के ऊपरी क्षेत्रों में रुक रुककर बर्फबारी जारी, जनजीवन अस्तव्यस्त

Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 13, 2019, 7:26 PM IST
हिमाचल के ऊपरी क्षेत्रों में रुक रुककर बर्फबारी जारी, जनजीवन अस्तव्यस्त
सड़क स्लीपरी होने के चलते रोके जा रहे वाहन

ढली से आगे हिमपात (Snowfall) ज्यादा होने के कारण आवाजाही प्रभावित (Movement affected) हुई है. जनजीवन भी अस्तव्यस्त (Lives disrupted) हो गया है. कुफरी-नारकंडा मार्ग पर बर्फबारी के चलते मार्ग स्लीपरी हो गया, जिस वजह से प्रशासन ने ढली में ही वाहनों को आगे जाने से रोक दिया.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल के ऊपरी क्षेत्रों में रुक रुककर हिमपात (Snowfall) का दौर जारी है. बीते कल कुफरी-नारकंडा में हिमपात हुआ था तो वहीं आज ढली-संजौली तक हिमपात हुआ. ढली से आगे हिमपात ज्यादा होने के कारण आवाजाही प्रभावित (Movement affected) हुई है. जनजीवन भी अस्तव्यस्त (Lives disrupted) हो गया है. कुफरी-नारकंडा मार्ग पर बर्फबारी के चलते मार्ग स्लीपरी हो गया, जिस वजह से प्रशासन ने ढली में ही वाहनों को आगे जाने से रोक दिया. इसके अलावा रामपुर-किन्नौर जाने वाले बड़े वाहनों और बसों को वाया बसंतपुर भेजा जा रहा है. ऐसा इसलिए, क्योंकि ढली से आगे कुफरी मार्ग पर ज्यादा बर्फ पड़ने से वाहनों को चलाना आसान नहीं रह गया है.

बर्फबारी के मद्देनजर प्रशासन ने एडवायजरी (Advisory) जारी करते हुए निर्देश दिए हैं कि केवल फोर बाई फोर वाहन लेकर ही आएं. साथ में अनुभवी चालक ही वाहन चलाएं.

ढली से लेकर नारकंडा तक हुई ताजा बर्फबारी


बर्फबारी के चलते अवरुद्ध हुई सड़कें

आज शाम को हुई बर्फबारी के कारण ढली से कुछ दूरी पर एक ट्रक भी खराब हो गया, जिससे दोनों तरफ भारी जाम लग गया. वहीं राज्य आपदा प्रबंधन तंत्र को मिली जानकारी के मुताबिक ताजा हिमपात के बाद 100 से ज्यादा सड़कें अभी भी बंद हैं. शिमला जिला का डोडराक्वार शेष दुनिया से कट चुका है और यहां बिजली भी ठप है. चौपाल उपमंडल में भी कई सड़कें बाधित हैं.

ये भी पढ़ें - हिमाचल के मंडी की प्रसिद्ध परासर झील में सीजन की पहली बर्फबारी

ये भी पढ़ें - शीतकालीन सत्र: विरोध के बीच उद्योगों से जुड़ा बिल पास, कांग्रेस का वॉकआउट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 13, 2019, 7:26 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर