लाइव टीवी

शिमला पुलिस ने रातभर रेस्क्यू चलाकर बर्फबारी में फंसे सैकड़ों लोगों की बचाई जान

Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 14, 2019, 4:05 PM IST
शिमला पुलिस ने रातभर रेस्क्यू चलाकर बर्फबारी में फंसे सैकड़ों लोगों की बचाई जान
शिमला में बर्फबारी के चलते फंसे सैंकड़ों लोगों की जान बचाई.

शिमला में फनवर्ल्ड के पास टूरिस्ट बस फंस गई, जिसमें महाराष्ट्र (Maharashtra) से आए 90 छात्र-छात्राएं सवार थे. हसन वैली में राजस्थान (Rajasthan) से आए 80 छात्रों की बस भी फंस गई थी. इन छात्र-छात्राओं को शिमला पुलिस ने बर्फबारी के दौरान रेस्क्यू करके सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) की राजधानी शिमला (Shimla) में बर्फबारी (Heavy Snowfall) पर्यटकों और आम लोगों पर भारी पड़ गई. शुक्रवार को हुई भारी बर्फबारी के चलते सैकड़ों लोग फंस गए. इसे देखते हुए पुलिस (Shimla Police) को रेस्क्यू ऑपरेशन (rescue operation) चलाना पड़ा. आपदा के दौरान जहां प्रशासन इससे बेखबर रहा, वहीं शिमला पुलिस ने इस दौरान शानदार काम किया. फनवर्ल्ड के पास टूरिस्ट बस फंस गई, इसमें महाराष्ट्र से आए 90 छात्र-छात्राएं सवार थे. ढली थाने के एसएचओ राजकुमार के नेतृत्व में पुलिस ने इन सभी छात्रो को रेस्क्यू कर बाहर निकाला.

हसन वैली में राजस्थान से आए 80 छात्रों की बस भी फंस गई थी. पर्याप्त वाहन और साधनों की कमी के बावजूद पुलिस ने इन सभी को भी सुरक्षित निकाल लिया. साथ ही बचाए गए छात्रों और अन्य लोगों को ठहराने का भी इंतजाम किया. किसी को कॉटेज, किसी को ट्राइबल भवन तो किसी को गुरूद्वारे में ठहराया गया. पुलिस अधीक्षक (एसपी) ओमापति जम्वाल ने बताया कि रात के समय छराबड़ा से कुफरी तक छोटे-बड़े 300 वाहन फंसे थे. उन्होंने कहा कि हसन वैली में 80 छोटी गाड़ियों के पहिए बर्फबारी के चलते जाम हो गए थे. जिला प्रशासन के साथ मिलकर तड़के साढ़े चार बजे तक रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया गया.

रात के 11 बजे पुलिस शुरू किया रेस्क्यू किया शुरू

छोटी शिमला से संजौली के बीच भी गाड़ियां फंसी रही. लेकिन यहां एमसी और जिला प्रशासन की नींद देर से टूटी. संकट की इस घड़ी में पुलिसकर्मियों ने मोर्चा संभाल लिया और बर्फ हटाने के औजार और बुलडोजर न होने के बावजूद उन्होंने बर्फ में फंसी गाड़ियों को धक्का देकर बाहर निकाला. इस ऑपरेशन में पुलिसकर्मियों के जैकेट भीग गए थे. बर्फबारी की वजह से तापमान शून्य से नीचे चला गया था लेकिन जवानों का हौसला टूटा नहीं. जानकारी के मुताबिक बर्फ हटाने के लिए जिला प्रशासन का अमला रात करीब 11 बजे छोटी शिमला क्षेत्र में पहुंचा.

shimla police
बर्फ हटाने के औजार और बुलडोजर न होने के बावजूद पुलिस के जवानों ने बर्फबारी के बीच गाड़ियों को धक्का देकर निकाला


कुफरी की ओर जाने वाले मार्ग पर वाहनों पर रोक

बर्फबारी के बाद शनिवार को मौसम साफ हुआ लेकिन यातायात व्यवस्था अभी तक पटरी पर नहीं लौटी है. कुफरी की ओर जाने वाले मार्ग पर वाहनों की आवाजाही पर रोक लगानी पड़ी. केवल फोर बाय फोर वाहनों को ही आगे भेजा गया. रामपुर की ओर जाने वाली गाड़ियों को वाया मशोबरा-बसंतपुर भेजा गया जिसके चलते संजौली से ढली तक लंबा जाम लगा रहा. पुलिस का कहना है कि जब तक सड़क पूरी तरह से साफ नहीं हो जाती तब तक कुफरी की ओर गाड़ियों को नहीं भेजा जाएगा.बर्फबारी देखने के लिए पुलिस से ​भिड़ने को तैयार पर्यटक

बर्फबारी देखने की चाहत में शिमला पहुंचे पर्यटकों की जिद उन्हें भारी पड़ती नजर आई. कुछ पर्यटक पुलिस के रोकने के बावजूद कुफरी की तरफ निकले थे जो रात को बर्फबारी में फंस गए. शनिवार को भी कुछ ऐसी ही स्थिति देखने को मिली. पर्यटक कुफरी जाने के लिए इस कदर बेताब हैं कि वो जवानों से भिड़ने तक के लिए तैयार हो जाते हैं. वो खतरे को अनदेखा कर आगे जाना चाहते हैं. जिला प्रशासन और पुलिस ने बर्फबारी के दौरान हर तरह की सावधानी बरतने और जारी एडवाइजरी का पालना करने की अपील की है.

स्कूल बच्चों को परीक्षा के लिए पैदल जाना पड़ा स्कूल

इन सबके बीच स्कूली बच्चों और मरीजों को भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा. शनिवार को 10वीं का पेपर था. इसके लिए छात्रों को पैदल ही स्कूल जाना पड़ा. वहीं एक मरीज को पीठ पर लादकर अस्पताल पहुंचाया गया.

यह भी पढ़ें: सिरमौर जिले में भारी हिमपात से सड़क,​ बिजली, पानी और यातायात व्यस्थाएं चरमराई

यहां छात्रों को परीक्षा देने के लिए 8 KM. बर्फीले रास्तों में चलना पड़ रहा है

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 14, 2019, 3:30 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर