प्रवेश परीक्षा के मुद्दे पर HPU में बवाल जारी, छात्र संगठनों ने वीसी के घर बोला हल्ला

छात्रों के प्रदर्शन के कारण वीसी की मां की तबीयत खराब हो गई
छात्रों के प्रदर्शन के कारण वीसी की मां की तबीयत खराब हो गई

छात्र संगठनों (Student Unions) ने एक सुर में कहा कि छात्रों की मांगों को लेकर कुलपति अपने कार्यालय और परिसर के भीतर बात करने को राजी नहीं थे, इसलिए उन्हें मजबूरी में उनके घर के बाहर प्रदर्शन (Protest) करना पड़ा.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी (Himachal Pradesh University) में पोस्ट ग्रेजुएशन में प्रवेश परीक्षा के आधार पर दाखिले की मांग पर हंगामा जारी है. इसी सिलसिले में सोमवार शाम को वाइस चांसलर के घर छात्रों ने हल्ला बोला. तीन छात्र संगठनों (Student Unions) के कार्यकर्ताओं ने टीचर्स कॉलोनी में वाइस चांसलर प्रोफेसर सिकंदर कुमार के घर के बाहर जमकर नारेबाजी की. एसएफआई, एबीवीपी और एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने करीब पौने घंटे तक नारेबाजी की और वाइस चांसलर से बात करने की मांग करते रहे. इस बीच कुलपति की मां की तबीयत अचानक खराब हो गई, जिसके चलते तीनों संगठनों ने धरना खत्म कर दिया.

कुलपति से मुलाकात नहीं होने पर रोष

तीनों संगठनों ने एक सुर में कहा कि छात्रों की मांगों को लेकर कुलपति अपने कार्यालय और परिसर के भीतर बात करने को राजी नहीं थे, इसलिए उन्हें मजबूरी में उनके घर के बाहर प्रदर्शन करना पड़ा. साथ ही कहा कि यूनिवर्सिटी प्रशासन छात्रों के साथ अन्याय कर रहा है. यूजीसी की गाइडलाइन और कोरोना की आड़ में छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है.



देर से पहुंचा पुलिसबल
छात्र जब वीसी के घर के बाहर प्रदर्शन के लिए पहुंचे तो मौके पर केवल एक पुलिसकर्मी मौजूद था. छात्र काफी संख्या में पहुंचे थे. समरहिल चौकी के कॉन्सटेबल अरूण ने अकेले मोर्चा संभाल रखा था. लेकिन थोड़ी देर बाद एचपीयू के सुरक्षाकर्मी मौके पर पहुंच गये. उसके बाद बालूगंज थाने के एसएचओ समेत अन्य पुलिसकर्मी और क्यूआरटी के जवान पहुंचे. एचपीयू के सुरक्षा तंत्र और पुलिस के खुफिया तंत्र को इस प्रदर्शन की भनक तक नहीं लगी.

वीसी की मां की तबीयत हुई खराब

इस बीच अंदर से खबर आई कि वीसी की मां की तबीयत अचनाक खराब हो गई है. बालूगंज थाने के एसएचओ लक्ष्मण ठाकुर ने इसकी जानकारी दी. एचपीयू की डिस्पेंसरी के डॉक्टर एंबूलेंस में वहां पहुंचे. इस सूचना पर छात्र संगठनों ने नारेबाजी बंद कर दी. एबीवीपी कार्यकर्ता थोड़ी देर धरने पर बैठे और फिर वहां से चले गए.

एसएचओ ने दी केस दर्ज करने की धमकी 
इससे पहले बालूगंज थाने के एसएचओ लक्ष्मण ठाकुर ने छात्रों को चेतावनी दी कि अगर वीसी की मां को कुछ हो जाता है तो वो छात्रों के खिलाफ धारा 307 यानि हत्या के प्रयास के तहत मामला दर्ज करेंगे. साथ ही आईपीसी की धारा 120 बी भी ठोकी जाएगी. इसके अलावा गिरफ्तार करने, बल प्रयोग करने की भी चेतावनी दी. एसएचओ ने सभी को तुंरत टीचर्स कॉलोनी से बाहर जाने को कहा. हालांकि सभी छात्र पहले से ही जाने को तैयार थे.

कॉलोनी के लोगों ने जताई आपत्ति
छात्रों के इस प्रदर्शन पर कॉलोनी में रह रहे लोगों ने आपत्ति जत्ताई. छात्र संगठनों को खूब खरी-खोटी सुनाई. इस दौरान एसएफआई कार्यकर्ताओं और एक महिला के बीच जमकर बहसबाजी हुई. महिला ने बुजुर्गों और बच्चों को परेशानी होने का हवाला दिया. महिला की तरफ से कुछ अपशब्द भी कहे गए जिसके चलते एसएफआई कार्यकर्ता उग्र हो गए और घर के बाहर लगी लकड़ी की दीवार पर चढ़ गए. एक समय माहौल खासा तनावपूर्ण हो गया. लेकिन थोड़ी देर बाद मामला शांत हो गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज