कोटखाई रेप-मर्डर: निलंबित IG जैदी की जमानत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का सुनवाई से इनकार

सूरज कस्टोडियल डेथ मामले में आरोपी हैं निलंबित आईजी जहूर जैदी. (FILE PHOTO)

Kotkhai Rape and Murder: दरअसल, 6 जुलाई 2017 को शिमला के कोटखाई में 16 साल की नाबालिग की रेप के बाद हत्या कर दी गई थी. इस मामले में एसआईटी ने पांच आरोपियो को गिरफ्तार किया था. इस एसआईटी के जांच प्रमुख जैदी थे. मामले में गिरफ्तार एक आरोपी सूरज की कोटखाई थाने में हत्या की गई थी.

  • Share this:
    सुशील पांडे

    शिमला/दिल्ली. हिमाचल प्रदेश के शिमला (Shimla) जिले के बहुचर्चित कोटखाई रेप और मर्डर केस से जुड़े सूरज कस्टोडियल डेथ मामले में आरोपी निलंबति आईजी जहूर जैदी की जमानत (Bail) याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई से इंकार कर दिया है. जैदी सहित इस मामले में शिमला के तत्कालीन एसपी नेगी सहित कुल 9 पुलिस कर्मी आरोपी हैं.

    क्या बोला सुप्रीम कोर्ट
    दरअसल, जैदी पर आरोप है कि उन्होंने शिमला की तत्कालीन एसपी सौम्या सांबशिवम पर कोर्ट में गवाही के लिए दवाब बनाया था. इसी आधार पर अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आरोपी पहले भी गवाहों को प्रभावित करने की कोशिश कर चुका है. इसलिए मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट नहीं करेगा. बता दें कि आरोपी जैदी ने बीते साल पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट से जमानत याचिका वापस ले ली. इससे पहले, चंडीगढ़ स्थित सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने जैदी की अंतरिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी. जैदी ने मेडिकल आधार पर जमानत देने की मांग करते हुए वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए खुद ही पैरवी की थी. मामले में सीबीआई की गवाह रही शिमला की तत्कालीन महिला एसपी ने जैदी पर आरोप लगाया था कि वह उन पर दवाब बना रहे हैं. बाद में कोर्ट ने जैदी की जमानत खारिज कर दी थी.

    विभागीय जांच में शामिल होना चाहता है जैदी
    बीते सोमवार को सीबीआई अदालत ने पूर्व आईजी जहूर हैदर जैदी की एक अन्य याचिका को खारिज कर दिया है. दरअसल, जैदी के खिलाफ शिमला में एक विभागीय जांच चल रही है. जैदी ने इस जांच में शामिल होने के लिए अदालत से अनुमति मांगी थी, जिसे अदालत ने खारिज कर दिया.जैदी ने याचिका दायर कर कहा था कि वह न्यायिक हिरासत के साथ शिमला जाकर अपने खिलाफ हो रही जांच में शामिल होना चाहते हैं, जिससे उन्हें जानकारी मिलती रहे कि जांच किस तरह से चल रही है. सीबीआई ने याचिका का विरोध करते हुए कहा कि चार महीने पहले भी इस तरह की याचिका खारिज की गई थी. सरकारी वकील पीके डोगरा ने कहा कि जैदी के खिलाफ गंभीर आरोप हैं, उन्हें विभागीय जांच के लिए खुद जाने की आवश्यकता नहीं है.

    क्या है पूरा मामला
    दरअसल, 6 जुलाई 2017 को शिमला के कोटखाई में 16 साल की नाबालिग की रेप के बाद हत्या कर दी गई थी. इस मामले में एसआईटी ने पांच आरोपियो को गिरफ्तार किया था. इस एसआईटी के जांच प्रमुख जैदी थे. मामले में गिरफ्तार एक आरोपी सूरज की कोटखाई थाने में हत्या की गई थी. पुलिस की मारपीट में आरोपी की मौत हो गई थी. मामले में जैदी पर आरोप है कि उन्होंने मामले में षड़यंत्र किया. इसी मामले में कुल नौ पुलिस कर्मियों की गिरफ्तारी हुई है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.