लाइव टीवी

हिमाचल में 3636 शिक्षकों के पद भरने में फंसा पेच, फिलहाल नहीं हो पाएगी भर्ती!
Shimla News in Hindi

Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: January 27, 2020, 12:12 PM IST
हिमाचल में 3636 शिक्षकों के पद भरने में फंसा पेच, फिलहाल नहीं हो पाएगी भर्ती!
3636 शिक्षकों के पद भरने की प्रक्रिया फिलहाल रोक दी गई है.

Teachers recruitment in Himachal: हिमाचल में वरिष्ठ माध्यमिक पाठशालाओं में प्रिंसिपल के पद भी बड़ी संख्या में खाली हैं. शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने इसकी पुष्टि की है.

  • Share this:
शिमला. साल 2019 में हिमाचल प्रदेश कैबिनेट (Himachal Pradesh Cabinet) से मंजूर हुए 3636 शिक्षकों (Teachers Vacancy) के पद भरने की प्रक्रिया फिलहाल रोक दी गई है. शिक्षक भर्ती (Teachers Recruitment) में तकनीकी पेच फंस गया है, इस मामले में कोर्ट ने भी भर्तियों को लेकर अपना फैसला दिया है. इसके बाद नए आदेश तक भर्तियां नहीं हो पाएंगी.

दरअसल, जयराम कैबिनेट ने शिक्षकों की भर्तियों को मंजूरी दी थी, जिसमें जेबीटी के 693 पद भी भरे जाने थे. इन भर्तियों के लिए एनसीटीई के नए नियमों के तहत बीएड धारकों को भी अप्लाई करने की अनुमति थी, जिन्हें बाद में छह महीने का ब्रिज कोर्स करवाया जाएगा.

इस वजह से लटकी भर्ती
हिमाचल में पहले ही बेरोजगार प्रशिक्षित जेबीटी हैं. ऐसे में बीएड धारक टीजीटी में अप्लाई कर सकते हैं. सरकार ने भी जेबीटी के पक्ष में अपना फैसला दिया था. हालांकि, कोर्ट ने बीएड धारकों को कंसीडर करने के आदेश दिए हैं. ऐसे में अब शिक्षक भर्ती लटक गई है. शिक्षा विभाग ने इस बीच 819 और पदों पर भर्ती के लिए कैबिनेट से मंजूरी ली, जो अगले वर्ष रिटायर होने वाले शिक्षकों की जगह भरे जाएंगे.

यह बोले शिक्षा मंत्री
शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कहा कि जब तक इस मामले में कुछ डिसाइड नहीं होता है, तब तक भर्तियां नहीं हो पाएंगी. हालांकि, उनका मानना है कि जेबीटी के लिए बीएड को कंसीडर करना सही नहीं है. प्राइमरी के लिए जेबीटी की उपयुक्त है. हिमाचल में जेबीटी बड़ी संख्या में हैं. शिक्षा विभाग कोर्ट और सरकार को यह बताने की कोशिश करेगा कि स्कूलों में टीचर भर्ती में फलेक्सिबिलिटी होनी चाहिए. भर्तियों पर रोक लगाना सही नहीं है. अगर भर्तियों में गड़बड़ी भी होती है तो उसे बाद में निरस्त भी किया जा सकता है.

प्रिंसिपल के भी अनेकों पद खालीहिमाचल में वरिष्ठ माध्यमिक पाठशालाओं में प्रिंसिपल के पद भी बड़ी संख्या में खाली हैं. शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने इसकी पुष्टि की है. उन्होंने कहा कि सरकार प्रोमोशन के जरिए भी शिक्षकों को प्रोमोट करके प्रिंसिपल बनाती है. उस पर भी हाईकोर्ट का स्टे है. ऐसे में कई स्कूल खाली हैं.

डिटलाइजेशन पर जोर देगी सरकार
शिक्षकों की कमी को देखते हुए शिक्षा विभाग डिजिटलाइजेशन पर जोर देगा. अगले शैक्षणिक सत्र से स्मार्ट क्लासरूप और वर्जुअल क्लासरूप-आईसीटी लैब की स्थापना का काम होगा. कलस्टर बनाकर एक ही जगह से कई स्कूलों को जोड़ा जाएगा, जिसमें शिक्षक एक स्थान पर बैठकर तकनीक की मदद से बच्चों को पढ़ाएगा. शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज इससे स्टाफ की बाधा भी नहीं होगी और पढ़ाई भी होती रहेगी.

ये भी पढ़ें:हिमाचल में येलो अलर्ट: शिमला में छाए बादल, बारिश-बर्फबारी के आसार

मिलिये,HPU में संस्कृत के प्रोफेसर रहे और पद्मश्री से सम्मानित अभिराज मिश्र से

हिमाचल: जेल से फरार विदेशी महिला से रेप का आरोपी कैदी 12 दिन बाद गिरफ्तार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 27, 2020, 12:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर