सेब सीजन में बागवानों को धोखाधड़ी से बचाने के लिए डीसी ने दिए ये निर्देश

शिमला के डीसी अमित कश्यप ने बताया कि पिछले साल सेब के सीजन में जालसाजी के दो केस आए हैं जिन पर कार्रवाई की जा रही है.

Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 20, 2019, 6:24 PM IST
सेब सीजन में बागवानों को धोखाधड़ी से बचाने के लिए डीसी ने दिए ये निर्देश
हिमाचल प्रदेश में अगले महीने से सेब सीजन शुरू हो रहा है
Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 20, 2019, 6:24 PM IST
हिमाचल प्रदेश के शिमला जिले में इस बार सेब की बंपर फसल होने का अनुमान है. सेब सीजन की तैयारियों को लेकर जिला प्रशासन ने भी कमर कस ली है. वीरवार को सेब सीजन की तैयारियों को लेकर डीसी शिमला अमित कश्यप ने विभिन्न विभागों, सेब उत्पादकों, ट्रांसपोटर्स और विभिन्न विभागों के साथ बैठक की. बैठक में डीसी शिमला ने विभिन्न विभागों के अधिकारियों को सेब सीजन के समय मे आने वाली दिक्कतों को निपटाने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि सेब सीजन के दौरान सेब के रेट को लेकर आने वाली समस्या का समाधान सम्बंधित खंड के एसडीएम, सेब उत्पाद और ट्रक ऑपरेटर करेंगे. इसके अलावा सीजन के दौरान होने वाली धोखाधड़ी जैसी घटनाओं को समाप्त करने के लिए एपीएमसी को नए लाइसेंस जारी करते समय व्यापारियों से गारंटी के रूप में प्रमाणपत्र लेने के निर्देश दिए हैं.

2018 में दो जालसाजी के मामले आए थे

अमित कश्यप ने बताया कि पिछले साल जालसाजी के दो केस आए हैं जिन पर कार्रवाई की जा रही है. इस साल इस तरह की कोई शिकायत नहीं आए, इसके लिए व्यापारियों से पांच से पचास लाख तक रुपए और बैंक के कागजात गारंटी के रूप में लिए जाएंगे. उन्होंने बागवान संघ के पदाधिकारियों से अनुरोध किया कि वे व्यापारियों के अधिक दाम के झांसे में न आएं और स्वयं जागरूक रहें और जालसाजी के मामले एपीएमसी के समक्ष रखें और इस दिशा में स्थानीय बागवानों को भी जागरूक करें.

फागू में किया जाएगा ट्रकों का पंजीकरण

उन्होंने बताया कि सेब नियन्त्रण कक्ष फागू में ट्रकों का पंजीकरण किया जाएगा तथा ड्राइवर व क्लीनरों के पहचान पत्र आधार कार्ड से लिंक किए जाएंगे, जिससे जालसाजी की घटनाओं पर अंकुश लगाया जा सके.

'अमरीकी सेब पर बढाए आयात शुल्क एक अच्छा निर्णय है'

शिमला के डीसी अमित कश्यप ने बताया कि बैठक के दौरान फल और सब्जी उत्पादक संघ ने विदेशी सेब के आयात शुल्क बढ़ाए जाने का समर्थन किया है. संघ के अध्यक्ष हरीश कुमार ने बताया कि सरकार द्वारा अमरीकी सेब पर बढाए आयात शुल्क एक अच्छा निर्णय है, जिसका फायदा हिमाचल के साथ साथ उतराखंड और जम्मू कश्मीर के बागवानों को होगा.
Loading...

44 देशों से आयात होने वाले सेब पर भी शुल्क बढ़ाने की मांग

अमित कश्यप ने कहा कि उन्होंने चीनी सेब का खुलकर विरोध किया है और वहां के सेब पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाने की मांग की है. उन्होंने कहा कि 44 देशों से आयात होने वाले सेब पर भी आयात शुल्क बढ़ाया जाए ताकि प्रदेश के बागवानों को लाभ मिल सके. इसके अलावा सेब को विशेष उत्पाद के रूप में शामिल किया जाए.

बैठक के दौरान बागवानों ने सेब की दरों को तय करने की मांग की है. सेब बागवान पवन जस्टा का कहना है कि हर बार की भांति जिला प्रशासन बैठक ही करता है, जबकि बागवानों की समस्याएं जस की तस बनी रहती है. आढ़ती बागवानों से पेटी पर मोटी रकम ऐंठता है लेकिन कोई कार्रवाई नहीं होती है.

यह भी पढ़ें: रोजगार: 174 पदों के लिए हिमाचल पुलिस की भर्ती प्रक्रिया 29 जून तक चलेगी

'स्कूलों से सरकारी तंत्र को पहुंचाया जाता है कमीशन'   

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 20, 2019, 6:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...