लाइव टीवी

हादसे के घायलों को बचाने वाली 13 वर्षीय हिमाचली बेटी अलाइका को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार
Shimla News in Hindi

News18 Himachal Pradesh
Updated: January 22, 2020, 1:47 PM IST
हादसे के घायलों को बचाने वाली 13 वर्षीय हिमाचली बेटी अलाइका को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार
13 साल की अलाइका बहादुर बच्चों के साथ. (लाल घेरे में)

National Bravery Award: बता दें कि मलाइका अपने माता पिता की इकलौती संतान हैं. हादसे में उन्होंने अपने दादा, मां और ड्राइवर की जान बचाई थी. अलाइका के इस हौसले की हर जगह तारीफ हुई थी.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) की 13 साल की बेटी अलाइका को राष्ट्रीय बाल वीरता पुरस्कार (National Bravery Award) से नवाजा गया है. नई दिल्ली में राष्ट्रपति भवन में अलाइका को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रीय सम्मान से अलंकृत किया. 13 साल की अलाइका हिमाचल प्रदेश (Kangra) के कांगड़ा जिले के पालमपुर (Palampur) से हैं.

कुल 22 बच्चे चुने गए थे
गैर सरकारी संस्था भारतीय बाल कल्याण परिषद की ओर से वीरता पुरस्कारों के लिए देशभर से 22 बच्चों को चुना गया था. इनमें पालमपुर के गांव कालू दी हट्टी की अलाइका को भी चुना गया है. अलाइका ने मुश्किल हालात में साहस दिखाते हुए सड़क हादसे के घायलों की जान बचाई थी.

अलाइका कांगड़ा जिले के पालमपुर की रहने वाली हैं.
अलाइका कांगड़ा जिले के पालमपुर की रहने वाली हैं.


बच्ची ने बचाई माता-पिता और दादा की जान
बहादुर 22 बच्चों में से 10 लड़कियों को भी इस पुरस्कार दिया गया. दरअसल, 1 सितंबर 2018 को अलाइका अपने परिवार के साथ एक बर्थडे पार्टी में लिए जा रही थी. इस दौरान बारिश हो रही थी और उनकी कार खाई में गिर गई. अलाइका के परिजन घटना में बेहोश हो गए तो अलाइका कार से निकली और सड़क तक पहुंची. इसके बाद अलाइका ने राहगीरों को रोका और हादसे के बारे में जानकारी दी.

अलाइका महज 13 साल की हैं.
अलाइका महज 13 साल की हैं.
माता-पिता की इकलौती संतान हैं अलाइका
बता दें कि मलाइका अपने माता-पिता की इकलौती संतान हैं. हादसे में उन्होंने अपने दादा, मां और ड्राइवर की जान बचाई थी. अलाइका के इस हौंसले की हर जगह तारीफ हुई थी. मलाइका अनुराधा पब्लिक स्कूल मारंडा में पढ़ती हैं. अलाइका की बहादुरी के लिए उसे स्कूल की ओर से भी सम्मानित किया गया था. राष्ट्रीय पुरस्कार के तहत भारतीय बाल कल्याण परिषद की ओर से 20 हजार रुपये और स्‍मृति चिन्ह प्रदान किया जाता है.

ये भी पढ़ें: PHOTOS: सरकारी मदद नहीं मिली तो बीमार कांस्टेबल को किराये पर लेना पड़ा चॉपर

हिमाचल कैबिनेट विस्तार: CM जयराम बोले-अब इस दिशा में आगे बढ़ने का वक्त

मंडी में घर में CID टीम की दबिश, महिला से पकड़ी 424 ग्राम अफीम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 1:39 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर