लाइव टीवी

बिहार के निवासी सैयदुल ने जयराम मुखिया की हत्या की ऐसे बनाई थी योजना

Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: October 25, 2019, 7:56 PM IST
बिहार के निवासी सैयदुल ने जयराम मुखिया की हत्या की ऐसे बनाई थी योजना
आरोपी सैयदुल ने हिमाचल के जयराम मुखिया योजनाबद्ध तरीके से की है.

परिजनों ने बताया कि 12 अक्तूबर की शाम को जयराम सब्जी लेने बाजार गया था. आरोपी उसकी हत्या से पहले मृतक के घर आया था.

  • Share this:
शिमला. बिहार के 50 वर्षीय ठेकेदार की हत्या के मामले में आखिरकार हिमाचल पुलिस (Himachal Police) के हाथ कामयाबी लगी. पुलिस ने आरोपी सैयदुल रहमान (Saidul Rahman) को गिरफ्तार कर लिया है. आरोपी बिहार के कटिहार (Katihar)का रहने वाला है. वह 24 साल का है. आरोपी को पुलिस वीरवार रात को शिमला लेकर पहुंची. बता दें कि 12 अक्तूबर के दिन ही मृतक जयराम मुखिया की गुमशुदगी की शिकायत बालूगंज थाने में दर्ज करवाई गई थी. 14 अक्तूबर को शोघी क्षेत्र के पनोग के पास जंगल में खून से लथपथ हालत में लाश मिली थी.

सैयदुल पर पुलिस को पहले ही हो गया था शक

पुलिस को सैयदुल रहमान पर शक था, क्योंकि वह भी 12 अक्तूबर से ही लापता था. सैयदुल को पकड़ने के लिए बालूगंज थाने के ASI अमरेंद्र सिंह के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया गया था. इस टीम ने उत्तर प्रदेश और बिहार में कई स्थानों पर दबिश दी. इसके अलावा घर और अन्य संभावित ठिकानों पर भी छापेमारी की. आरोपी के रिश्तेदारों से भी पूछताछ की, लेकिन पुलिस के हाथ कुछ भी नहीं लगा. बिहार में आरोपी के घर जब पुलिस पहुंची तो वहां पर भी ताला लगा हुआ था. पुलिस ने अपने सूत्रों का इस्तेमाल करते हुए आखिरकार सैयदुल को 24 अक्तूबर को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया.

हत्या से पहले आरोपी मृतक के घर गया था

मृतक के परिजनों से जब News18 की टीम ने बातचीत की तो पता चला कि बड़ी बेहरमी से जयराम मुखिया का कत्ल किया गया. परिजनों ने बताया कि आरोपी सैयदुल पहले से ही जयराम की हत्या की ताक में था. लेन-देन के बहाने झगड़े की वजह तलाशता रहता था. आरोपी भी छोटी मोटी ठेकेदारी करता है. हत्या से पहले जब काम का हिसाब चल रहा था तो आरोपी ने जानबूझकर जयराम मुखिया से कहा कि उसका एक लाख रुपये से ज्यादा का हिसाब बनता है, जबकि हिसाब यह बता रहा था कि उसका करीब 19 हजार रुपये ही बनता है. मृतक ने उसे 15 हजार रूपए कैश दे दिए थे और केवल 4 हजार रूपए की देनदारी बची थी. इस पर दोनों के बीच में काफी विवाद हुआ था.

मौत से पहले जयराम सब्जी लेने बाजार गया था

मौके पर जब पुलिस और परिजन पहुंचे तो दिल दहला देने वाला मंजर सामने था. परिजनों ने बताया कि 12 अक्तूबर की शाम को जयराम सब्जी लेने बाजार गया था. आरोपी पहले मृतक के घर गया. मृतक के परिजनों ने आरोपी को जयराम के सब्जी लेने के लिए बाजार जाने की बात बताई. आरोपी के इरादों की जरा सी भी परिजनों को भनक नहीं लग पाई थी. जयराम के सब्जी लेने के लिए बाजार जाने की बात का पता चलते ही आरोपी शोघी के पनोग के पास जंगल में छुप गया.
Loading...

पत्थर से आरोपी जयराम मुखिया के सिर पर लगातार वार करता रहा

जयराम वहां से जैसे गुजर रहा तब पत्थर से आरोपी ने उसके सिर पर वार कर दिया. आरोपी ने हैवानों की तरह उसके सिर पर लगातार वार करता रहा. फिर उसे घसीटते हुए एक खाई के पास लेकर गया. आरोपी नहीं चाहता था कि किसी भी सूरत में जयराम की जान बचे. इस हैवान ने फिर से पत्थरों से कई वार किए और फिर अंत में जयराम मुखिया की गर्दन मरोड़ दी.

आरोपी ने मृतक के जेब से पैसे और एटीएम कार्ड तक निकाल लिए

मृतक की जेब में कुछ पैसे पड़े थे. वो पैसे निकाल लिए और एटीएम कार्ड भी निकाल लिया और फिर आधा नंगा कर फेंक दिया. दरिंगदी को अंजाम देने के बाद आरोपी वहां से फरार हो गया. भागने के लिए आरोपी ने एयरपोर्ट वाले रास्ते का इस्तेमाल किया. यह भी जानकारी मिली है कि आरोपी को मृतक के एटीएम के पिन नंबर का पता था. सोलन पहुंचने पर आरोपी ने पैसे निकाले. आरोपी ने इस एटीएम से 5 अलग-अलग स्थान से पैसे निकाले. मृतक के पीछे परिवार में पत्नी और 3 बच्चे हैं. बताया जा रहा है कि आरोपी भी शादीशुदा है और उसका एक बच्चा भी है.

यह भी पढ़ें: ऊना में 4.2 ग्राम चिट्टे के साथ पंजाब के दो युवक गिरफ्तार

दीवाली पर जयराम सरकार ने दिया 20 इलेक्ट्रिक बसों का तोहफा, लगे हैं सात कैमरे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कटिहार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 25, 2019, 7:56 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...