Exit Polls 2019: ये दो नाम, जिनकी बदौलत हिमाचल में कांग्रेस का हुआ सूपड़ा साफ!

मोदी और अमित शाह के बाद भाजपा में सबसे अधिक रैलियां जयराम ने की. प्रदेश के सभी 68 विधानसभा क्षेत्रों का दौरा किया. कांग्रेस या दूसरे दलों के नेताओं के भाजपा में शामिल होने के दौरान सीएम खुद मौके पर मौजूद रहे.

News18 Himachal Pradesh
Updated: May 20, 2019, 3:10 PM IST
Exit Polls 2019: ये दो नाम, जिनकी बदौलत हिमाचल में कांग्रेस का हुआ सूपड़ा साफ!
सीएम जयराम और भाजपा के संगठन मंत्री पवन राणा.
News18 Himachal Pradesh
Updated: May 20, 2019, 3:10 PM IST
हिमाचल प्रदेश में 2014 लोकसभा चुनाव की तरह भाजपा कांग्रेस का सूपड़ा साफ कर देगी. कम से कम लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर आए एग्जिट पोल्स तो यही कहते हैं. हिमाचल प्रदेश में 2009 के बाद से लोकसभा चुनाव में भाजपा का प्रदर्शन सुधरा है.

भाजपा ने जहां 2009 में तीन सीटें जीती थी, वहीं, 2014 में उसे चारों पर जीत मिली. इस बार भी प्रदेश में मंडी, कांगड़ा, हमीरपुर और शिमला चारों सीटों पर भाजपा परचम लहराएगी, ऐसा अनुमान है. वैसे भी मौजूदा समय में प्रदेश की 68 विधानसभा सीटों पर 44 पर भाजपा का कब्जा है. मंडी जिले में तो कांग्रेस 10 सीटों में से एक भी नहीं जीत पाई थी.



बूथ और माइक्रो लेवल मैनेजमैंट

हिमाचल में भाजपा का पूरा चुनाव प्रचार कैंपेन सीएम जयराम ठाकुर के इर्द-गिर्द ही घूमा. उन्हें अमित शाह के करीब माना जाता है. सीएम बनने से पहले जय राम ठाकुर आरएसएस से काफी करीब jरहे हैं. विधानसभा चुनाव से पहले अमित शाह ने खुद कहा था कि उन्हें जीताओगे तो उन्हें बड़ी भूमिका दी जाएगी. इस लोकसभा चुनाव में सीएम ही मुख्य भूमिका में नजर आए.

सीएम हर जगह आगे

टिकट आवंटन से लेकर प्रचार तक वही अग्रणी रहे. भाजपा ने प्रदेश के लिए 40 स्टार प्रचारकों के नाम जारी किए थे, लेकिन, सीएम ही सबसे आगे नजर आए. सीएम ने चुनाव घोषण से लेकर प्रचार थमने तक सूबे में 106 रैलियां की. खुद अमित शाह ने उनकी तारीफ की थी. मोदी और अमित शाह के बाद भाजपा में सबसे अधिक रैलियां जयराम ने की. प्रदेश के सभी 68 विधानसभा क्षेत्रों का दौरा किया. कांग्रेस या दूसरे दलों के नेताओं के भाजपा में शामिल होने के दौरान सीएम खुद मौके पर मौजूद रहे. टिकट आवंटन में भी उन्होंने मंडी के लिए राम स्वरूप की पैरवी की.

संगठन की भूमिका अहम
Loading...

हिमाचल में भाजपा संगठन मंत्री की भूमिका भी अहम रही. लोकसभा चुनाव से पहले ही भाजपा ने चारों सीटों पर पन्ना प्रमुख सम्मलेन करवाए. भाजपा ने दावा किया कि उसने चारों सीटों पर करीब पौने दो लाख से ऊपर पन्ना प्रमुख बनाए हैं. हिमाचल में भाजपा उपाध्यक्ष और चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष गणेश दत्त का कहना है कि भाजपा के पूरे चुनावी अभियान में संगठन और शीर्ष नेताओं का खासा योगदान रहा. संगठन ने बूथ मैनेजमैंट के लिए पहले तो पन्ना प्रमुख सम्मेलन करवाए. पन्ना प्रमुख वह शख्स होता है, जिसका नाम वोटर लिस्ट के पेज में सबसे ऊपर होता है.

इसके अलावा, एससी मोर्चों की बैठकें हुई. सीएम जयराम ठाकुर ने प्रचार में अग्रणी भूमिका निभाई और प्रदेश में जयराम और मोदी सरकार के नाम पर वोट मांगे गए. उन्होंने कहा कि चुनाव प्रचार समिति में उनकी और चंद्रमोहन के अलावा, स्टार प्रचारकों की भूमिका अहम रही.

इनकी भूमिका भी अहम
हिमाचल में भाजपा के संगठन मंत्री पवन राणा की अहम भूमिका रही. उन्होंने टिकट आवंटन प्रक्रिया में भी हिस्सा लिया. पवन राणा आरएसएस के काफी करीब हैं. टिकट आवंटन को लेकर जब दिल्ली में भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व की बैठक हुई थी तो पवन राणा बैठक में मौजूद थे. बूथ लेवल पर इन्होंने ही भाजपा कार्यकर्ताओं को चेनेलाइज किया, जिसका फायदा भाजपा को मिला है.शिमला सीट से भाजपा के दो बार के सांसद वीरेंद्र कश्यप का टिकट भाजपा ने काटा. कहीं ना कहीं भाजपा ने जमीन स्तर पर वोटरों की नब्ज टटोली और उसके अनुसार अपना प्रचार अभियान चलाया. अब एग्जिट पोल के अनुसार भाजपा फिर से प्रदेश में चारों सीटों पर कांग्रेस का सूपड़ा साफ करेगी.

ये भी पढ़ें: पोलिंग बूथ के पास खेल रही 9 साल की बच्ची से रेप, FIR

मर्डर केस में सजायाफ्ता कैदी पुलिस को चकमा देकर बाइक पर फरार

लोकसभा चुनाव खत्म, दिल्ली पहुंचे CM जयराम, करवाएंगे इलाज

रिकांग पिओ में EVM के स्ट्रांग रूम में आग, मचा हड़कंप

कुल्लू में पोलिंग बूथ-38 में प्रीजाइडिंग ऑफिसर सस्पेंड

शिमला रेप केस: ‘लोस चुनाव के चलते केस दबाना चाहती है पुलिस‘
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...