वाल्मीकी की तस्वीर वाले पत्तल पर परोसा मटन, शिमला विरोध में, सोलन में FIR

शिमला और सोलन में ऐसी प्लेट में खाने परोसने पर विरोध हो रहा है.
शिमला और सोलन में ऐसी प्लेट में खाने परोसने पर विरोध हो रहा है.

सोलन वाल्मीकि वर्ग सुधार समिति ने प्रधान प्रेम चंद मट्टू ने कहा कि कागज़ की प्लेटों पर वाल्मीकि जी का चित्र दर्शाया गया था और उसे खाना परोसने के लिए उपयोग में लाया जा रहा था.

  • Share this:
शिमला. खाने की पत्तल में महावीर वाल्मीकी (Valmiki) की तस्वीर छपने को लेकर शिमलावाल्मीकि समुदाय ने कम्पनी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.आरोप है कि पत्तल में मटन भी परोसा जा रहा है. शिमला (Shimla) में वाल्मीकी समुदाय के लोगों ने डीसी शिमला अमित कश्यप को ज्ञापन सौंपा और कार्रवाई की मांग की है. वहीं, मामले में सोलन में केस भी दर्ज किया गया है.

बाल्मीकि समुदाय के लोगों का कहना है कि सोलन की एक कंपनी द्वारा खाने की पत्तल में महावीर बाल्मीकि की तस्वीर छाप दी है, जो बाज़ारों में भी उपलब्ध हो गई है. इससे लोग बड़े बड़े समारोहों में इस्तेमाल करेंगे और इन्हीं पत्तलों रोटी खाकर इन्हें डस्टबीन में डालेंगे, जिससे उनकी आत्मा आहत होगी.

क्या बोले प्रधान
बाल्मीकि सभा के अध्यक्ष प्रीतपाल मट्टू का कहना है कि पत्तल में छपी तस्वीर महावीर बाल्मीकि की भावना को ठेस पहुंची है.इसका बाल्मीकि समाज विरोध करता है और उन्होंने इस मामले पर कंपनी के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई करने की मांग की है.उन्होंने कहा यदि प्रशासन और सरकार कंपनी पर कोई कार्रवाई नहीं करती है तो उसके खिलाफ सड़कों पर उतरकर आंदोलन किया जाएगा.
सोलन में केस दर्ज


सोलन वाल्मीकि वर्ग सुधार समिति ने प्रधान प्रेम चंद मट्टू ने कहा कि कागज़ की प्लेटों पर वाल्मीकि जी का चित्र दर्शाया गया था और उसे खाना परोसने के लिए उपयोग में लाया जा रहा था. यह रामायण के रचयिता महर्षि वाल्मीकि जी का यह निरादर है और वाल्मीकि वर्ग सुधार समिति इसका पुरजोर विरोध करती है. पुलिस चौकी पर दोषी व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज करवाया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज