अपना शहर चुनें

States

शिमला में बिना आई कार्ड के नहीं बैठ पाएंगे तहबाजारी, नगर निगम हुआ सख्त

अब तक 26 तहबाजारियों की हो चुकी है पुलिस वेरिफिकेशन.
अब तक 26 तहबाजारियों की हो चुकी है पुलिस वेरिफिकेशन.

निगम में पंजीकृत तहबाजारियों (Vendors) के लिए आई कार्ड बनाकर इनकी पुलिस वेरिफिकेशन (Police verification) की जा रही है. इसके बाद पंजीकृत तहबाजारियों (Registered vendors) को ही चिह्नित जगह पर बैठने दिया जाएगा.

  • Share this:
शिमला. राजधानी में अवैध तहबाजारियों के खिलाफ नगर निगम शिमला (Municipal corporation Shimla) सख्त हो गया है. निगम ने अवैध तहबाजारियों से निजात पाने के लिए नया तरीका ढूंढा है. निगम अब बिना आई कार्ड (Identity Card) के किसी भी तहबाजारी (Vendors) को बैठने नहीं देगा. इसके लिए निगम ने एमसी में पंजीकृत सभी 1065 तहबाजारियों का पुलिस वेरिफिकेशन (Police verification) करना शुरू कर दिया है. पुलिस वेरिफिकेशन के बाद ही शिमला में पंजीकृत तहबाजारियों को बैठने दिया जाएगा. इसके अलावा शहर में अवैध रूप से जगह-जगह अपनी तहबाजारी लगाने वाले लोगों को बैठने नहीं दिया जाएगा.

तहबाजारियों की हो रही पुलिस वेरिफिकेशन

नगर निगम संयुक्त आयुक्त अजीत भारद्वाज ने बताया कि शिमला में तहबाजारियों की संख्या में लगातार बढोतरी हो रही है. यह नगर निगम शिमला के लिए एक चुनौती बन चुकी है. इस समस्या से निजात पाने के लिए निगम ने स्ट्रीट वेंडर पालिसी के तहत कार्य करना शुरू कर दिया है. निगम में पंजीकृत तहबाजारियों के लिए आई कार्ड बनाकर इनकी पुलिस वेरिफिकेशन की जा रही है. पुलिस वेरिफिकेशन के बाद ही पंजीकृत तहबाजारियों को ही चिह्नित जगह पर बैठने दिया जाएगा.



एमसी शिमला के संयुक्त आयुक्त अजीत भारद्वाज ने कहा कि निगम में मौजूदा समय में करीब 1065 तहबाजारी पंजीकृत हैं.

अभी फिलहाल पुलिस ने 26 तहबाजारियों की पहचान कर दी है. पंजीकृत तहबाजारी अपने अपने दस्तावेज पुलिस और निगम को सौंप रहे हैं.

ये भी पढ़ें - हिमाचल में भूकंप के झटके, 4 दिन में दूसरी बार डोली धरती

ये भी पढ़ें - सरकार के 2 साल:जश्न पर गरमाई सियासत,रैली का पूरा खर्च राठौर को भेज देंगे-सत्ती
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज