भाजपा का संकल्प पत्र: वीरभद्र सिंह बोले-कहीं पुराना ही घोषणा पत्र तो नहीं पढ़ लिया?

पूर्व सीएम ने कहा कि मुख्यमन्त्री कार्यालय आरएसएस के लोगों से घिरा हुआ है, जो कि प्रदेश के सामान विकास में रोड़े डालते रहते हैं.

G.S. Tomar | News18 Himachal Pradesh
Updated: April 8, 2019, 5:41 PM IST
भाजपा का संकल्प पत्र: वीरभद्र सिंह बोले-कहीं पुराना ही घोषणा पत्र तो नहीं पढ़ लिया?
पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह, हिमाचल प्रदेश.
G.S. Tomar
G.S. Tomar | News18 Himachal Pradesh
Updated: April 8, 2019, 5:41 PM IST
हिमाचल प्रदेश के कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमन्त्री वीरभद्र सिंह ने भाजपा के संकल्प पत्र को जुमलों का पत्र करार देते हुए भाजपा से पूछा है कि कहीं पुराना ही घोषणा पत्र तो नहीं पढ़ लिया, क्योंकि इसमें नया कुछ नहीं है. वही पुराना राग, राम मन्दिर का निर्माण करने व सविंधान की धारा-370 को समाप्त करने जैसी बातें इसमें दोहराई गई हैं.

वीरभद्र सिंह ने कहा कि न तो बेराजगारों के लिए कोई वादा है न किसानों के लिए. केवल सपने दिखाए गए हैं, जो न तो पहले पूरे हुए और न ही आगे होंगे. इन्हीं मुद्दों को जनता के सामने रखकर 2014 में नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा ने देश में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई थी. लेकिन पूरे पांच साल तक शासन करने के बाद भाजपा ने 2014 में अपने घोषणा पत्र में किए अधिकांश वायदे को पूरा नहीं किया.



भाजपा 2019 में अब पुनः उन्हीं मुद्दों को लेकर देश की जनता को अपने माया जाल में फंसाने में लगी हुई हैं. देश की जनता भाजपा की कथनी-करनी में भेद समझ गई है और आने वाले चुनावों में उन्हें इसका सबक सिखाने का पूरा मन बना चुकी है. प्रदेश में वर्तमान सरकार का पिछले एक साल का कार्यकाल निराशाजनक रहा है. प्रदेश में नेशनल हाईवे, स्वास्थ्य, शिक्षा व रोजगार के क्षेत्र में कोई कार्य नहीं हुआ है.

उन्हांने कहा कि केन्द्र में नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में बनी सरकार के सामने राष्ट्रीय मुद्दों में बेरोजगारों को रोजगार देना, विदेश से काला धन वापिस लाने, किसानों व बागमानों को आत्म निर्भर बनाने के लिए कदम उठाना थे, लेकिन इन सभी मुद्दों को छोड़कर भाजपा लोगों को ध्यान भटका कर अपने राजनेतिक लाभ उठाने के लिए देश की आंतरिक व वाहरी सुरक्षा को खतरे में डालकर पुलवामा हमला व सर्जिकल स्ट्राइक को मुद्दा बनाकर जनता को गुमराह कर रही है. भाजपा का ऐसे मुद्दों का सहारा लेना देश के हित में बिल्कुल नहीं है.

पूर्व सीएम ने कहा कि मुख्यमन्त्री कार्यालय आरएसएस के लोगों से घिरा हुआ है, जो कि प्रदेश के सामान विकास में रोड़े डालते रहते हैं.

ये भी पढ़ें: हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के आवास पर पड़ सकता है CBI-IT विभाग का छापा

कुल्लू में 400 मीटर नीचे खाई में गिरी बोलेरो, 2 महिलाओं की मौत, 4 घायल
Loading...

लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा का संकल्प पत्र शब्दों का मकड़जाल: कुलदीप राठौर

'इमरान को डर है कि मोदी की सरकार बनेगी तो दुनिया के नक्शे पर पाकिस्तान रहेगा या नहीं'

सेल्फी लेने के चक्कर में सतलुज नदी के बीच फंसे युवक-युवती, किए गए रेस्क्यू

PHOTOS: 10 फुट बर्फ, 18 किमी की चढ़ाई कर 11 हजार फीट ऊंचे चूड़धार पहुंचे श्रद्धालू
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार