नौ माह बाद भी नहीं मिल रहे पानी के बिल, पार्षदों ने खोला मोर्चा

शिमला में पानी का जिम्मा संभाल रहा जल निगम नौ माह के बाद भी बिल जारी करने में असमर्थ नजर आ रहा है.

Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 5, 2019, 5:34 PM IST
नौ माह बाद भी नहीं मिल रहे पानी के बिल, पार्षदों ने खोला मोर्चा
जल प्रबंधन निगम उपभोक्ताओं को नहीं भेज रहा वॉटर बिल
Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 5, 2019, 5:34 PM IST
राजधानी वासियों को पानी के बिलों के लिए एक बार फिर तरसना पड़ रहा है. शिमला में पानी का जिम्मा संभाल रहा जल निगम नौ माह के बाद भी बिल जारी करने में असमर्थ नजर आ रहा है. इसके चलते शहरवासियों को पानी के बिल के लिए एक बार फिर अपनी जेब ढीली करनी पड़ रही है. नौ माह से पानी के बिल न मिलने पर अब निगम पार्षदों ने जल निगम के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. निगम पार्षदों का कहना है कि शिमला में पानी का जिम्मा संभाल रहा जल निगम को एक साल से अधिक समय हो गया है लेकिन जल निगम शहरवासियों को मूलभूत सुविधाएं प्रदान करने में विफल दिखाई दे रहा है. निगम ने पहले नौ माह के बिल एक साथ जारी कर जनता की जेब पर आर्थिक बोझ डाला है. वहीं एक बार फिर नौ माह बीत जाने के बाद भी शहर की जनता को पानी के बिलों के लिए तरसना पड़ रहा है. वहीं दूसरी ओर जल प्रबंधन निगम पानी के बिलों को लेकर सॉफ्टवेयर बनाने का हवाला दे रहा है, जबकि हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है.

बिल के लिए तैयार किया जा रहा है सॉफ्टवेयर

जल निगम पानी के बिलों को लेकर जो सॉफ्टवेयर तैयार करने की बात कर रहा है उसमें अभी करीब 60 फीसदी से ज्यादा का कार्य होने को है. निगम पार्षदों ने जल निगम पर आरोप लगाया है कि कंपनी गठित होने पहले जल निगम ने हर माह पानी के बिल जारी करने का दावा किया था, लेकिन कंपनी नी का यह दावा फेल होता दिखाई दे रहा है.

पार्षदों ने हर माह पानी के बिल जारी करने की मांग की

पार्षदों ने जल निगम से हर माह पानी के बिल जारी करने की मांग की है, ताकि शहर की जनता पर आर्थिक बोझ न पड़े. वहीं मेयर कुसुम सदरेट ने जल निगम को हर माह पानी के बिल को लेकर बनाए जा रहे सॉफ्टवेयर को जल्द बनाकर पानी के बिल जारी करने के निर्देश दिए हैं.

ये भी पढ़ें: भूकंप से पैदा हो रही है पहाड़ों में पानी की समस्या 

हिमाचल में सेब के बागीचों में काम करने वाले मजदूरों का कटेगा PF
First published: June 5, 2019, 5:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...