#MissionPaani: हिमाचल में बरसात का मौसम, फिर भी शिमला में गहराया ‘जल संकट’

मेयर ने कंपनी के अधिकारियों को आदेश दिए है कि रोजाना गिरी के पानी की मॉनिटरिंग करें. साथ ही पानी की गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाए.

Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 11, 2019, 11:14 AM IST
#MissionPaani: हिमाचल में बरसात का मौसम, फिर भी शिमला में गहराया ‘जल संकट’
शिमला के गिरी और गुम्मा में पानी की सप्लाई गिरी है. शहर को पानी कम मिल रहा है.
Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 11, 2019, 11:14 AM IST
पहाड़ों की रानी शिमला में बरसात में भी लोगो को पानी के लिए तरसना पड़ रहा है. बरसात के मौसम में भी राजधानी शिमला में पेयजल संकट मडराने लगा है. शिमला में इस बार गर्मियों में पेयजल किल्लत नहीं हुई, लेकिन मॉनसून शुरू होते ही पेयजल योजनाओं में गाद भरने से यह संकट सामने आ गया है. शहर की सबसे बड़ी पेयजल परियोजनाएं गिरी और गुम्मा में गाद भरने से पानी की  सप्लाई ठप हो गई है.

बुधवार को सप्लाई गिरी, यहां नहीं पहुंचा पानी
गाद आने से बुधवार को सभी 6 पेयजल परियोजनाओं से 47 एमएलडी की जगह मात्र 35.39 एमएलडी पानी की आपूर्ति ही हो पाई. इस वजह से शहर के 18 क्षेत्रों में पेयजल आपूर्ति नहीं हो पाई है. बुधवार को न्यू शिमला के सेक्टर एक, दो, तीन, चार, हाउसिंग बोर्ड कालोनी संजौली, इंजनघर, सांगटी, कनलोग, चक्कर, अपर कामनादेवी, टूटीकंडी, बालूगंज, सेंट्रल जोन के तहत आने वाले रिज, मालरोड, लोअर बाजार, सब्जी मंडी, बसस्टैंड और कृष्णानगर इलाकों में पानी की सप्लाई नहीं हुई.

अब दूसरे दिन पानी

पीने का पानी न मिलने से लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. पानी की कमी के चलते शिमला जल प्रबंधन निगम ने पानी की राशनिंग शुरू कर दी है. इसके चलते शहरवासियों को पानी के लिए एक दिन छोड़कर इंतजार करना पड़ रहा है.

डपिंग साइट की वजह से सप्लाई ठप
शहर में पानी की किल्लत को देखते हुए मेयर कुसुम सदरेट ने बुधवार को जल प्रबंधन कंपनी के एम.डी धर्मेंद्र गिल, निगम आयुक्त पंकज राय सहित अन्य आला अधिकारियों के साथ बैठक कर गिरी में अवैध डंपिंग को रोकने के लिए उचित कदम उठाने व पानी की रोजाना मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिए है. गिरी में अवैध डंपिंग रोकने को लेकर मेयर कुसुम सदरेट ने मुख्य सचिव व जिला डीसी अमित कश्यप को पत्र लिखकर गिरी में अवैध डंपिंग को रोकने की मांग की है.
Loading...

Shimla water Crisis.
शिमला में गिरी में डपिंग होने की वजह से पानी गंदा हो रहा है.


रोजाना मॉनिटरिंग करें अधिकारी-मेयर
मेयर ने कंपनी के अधिकारियों को आदेश दिए है कि रोजाना गिरी के पानी की मॉनिटरिंग करें. साथ ही पानी की गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाए. गिरी में गाद अधिक होने से जितना पानी भी लिफ्ट किया जा रहा है, वह मटमैला है जिससे जलजनित रोग हो सकते हैं. ऐसे में आम जनता से सावधानी बरतने की अपील की गई है. उन्होंने कहा कि गुरुवार को निगम के अधिकारियों के साथ गिरी परियोजना का दौरा किया जाएगा.

Shimla Water Crisis.
शिमला के गिरी में डंपिग की वजह से पानी मटमैला हो गया है.


ये बोले डीसी
शिमला में पेयजल संकट को लेकर डीसी शिमला ने शिमला जल प्रबंधन निगम को जल्द पानी की स्थिति को बेहतर करने के निर्देश जारी किए हैं. उन्होंने कहा कि बरसात के समय शहर में पानी की कोई कमी न हो, इसके लिए पहले ही निर्देश दिए गए हैं यदि इस तरह की समस्या है तो उसका तुरंत किया जाए.

ये भी पढ़ें: शिमला:बंद हुआ ये रेस्तरां, यहां गुलाब जामुन खाने आते थे मोदी

श्रीखंड महादेव: पार्वती बाग से आगे भक्तों की ‘अग्नि परीक्षा’
First published: July 11, 2019, 11:08 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...