लाइव टीवी

शीतकालीन अवकाश वाले स्कूलों में होने वाली परीक्षाओं पर असर डाल सकता है मौसम

Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: November 17, 2019, 11:42 PM IST
शीतकालीन अवकाश वाले स्कूलों में होने वाली परीक्षाओं पर असर डाल सकता है मौसम
5वीं और 8वीं की होगी बोर्ड परीक्षा, 5 दिसंबर से शुरू होंगे पेपर

5वीं और 8वीं की परीक्षा का आयोजन इस बार शिक्षा बोर्ड करवाएगा और प्रश्न पत्र भी बोर्ड ही तैयार करेगा. पांचवीं और आठवीं की परीक्षा 5 दिसंबर से शुरू होंगी.

  • Share this:
शिमला. शीतकालीन अवकाश वाले स्कूलों (Winter Vacation Schools) की वार्षिक परीक्षाओं (Annual Examination) में मौसम अपना असर (Weather Impact) दिखा सकता है. कबायली और दूर-दराज के इलाकों में परीक्षा करवाने के लिए शिक्षा निदेशालय और स्कूल शिक्षा बोर्ड (School Education Board) ने भी कमर कस ली है. सभी जिला उप निदेशकों को जरूरी दिशा निर्देश और आदेश जारी कर दिए गए हैं. स्कूल शिक्षा बोर्ड का दावा है कि इस बार सभी परीक्षा केंद्रों में समय पर प्रश्न-पत्र पहुंचा दिए जाएंगे. दूर-दराज के इलाकों में हर साल प्रश्न पत्रों के पहुंचने में देरी होती है, जिससे
परीक्षा संचालकों और शिक्षकों को खासी परेशानी उठानी पड़ती है.

5वीं व 8वीं की परीक्षा का आयोजन शिक्षा बोर्ड करवाएगा

5वीं और 8वीं की परीक्षा का आोयजन इस बार शिक्षा बोर्ड करवाएगा और प्रश्न पत्र भी बोर्ड ही तैयार करेगा. पांचवीं और आठवीं की परीक्षा 5 दिसंबर से शुरू होंगी. इस बार मौसम के मिजाज को देखते हुए ऊंचाई वाले स्थानों पर बर्फबारी के ज्यादा आसार नजर आ रहे हैं. बोर्ड का कहना है कि परीक्षाएं करवाने का जिम्मा सरकार ने इस बार शिक्षा विभाग को सौंपा है. बोर्ड केवल प्रश्न पत्र ही तैयार करेगा. इसलिए देरी का कोई सवाल ही नहीं है.

9वीं और 11वीं कक्षा के लिए भी जल्द तैयार किया जाएगा प्रश्नपत्र 


उत्तर पुस्तिकाओं की जांच जिला उपनिदेशक स्तर पर होगी

नौंवी और ग्यारहवीं कक्षा के लिए जल्द ही प्रश्न पत्र तैयार कर परीक्षा केंद्रों में पहुंचा दिए जाएंगे. आठवीं कक्षा में करीब 65 हजार तो पांचवी में लगभग 63 हजार छात्र परीक्षाएं देंगे. उत्तर पुस्तिकाओं की जांच जिला उपनिदेशक स्तर पर ही होगी. फेल होने वाले छात्रों को दो माह में परीक्षा पास करने के लिए एक मौका दिया जाएगा. दो माह के दौरान फेल होने वाले छात्रों के लिए अतिरिक्त कक्षाएं लगाई जाएंगी. दोबारा फेल होने पर कोई चांस नहीं मिलेगा. कुल 100 नंबर का पेपर होगा. इसमें लिखित परीक्षा 85 अंकोंकी होगी और पास होने के लिए 28 नंबर हासिल करना जरूरी होंगे. 15 नंबर इंटरनल असेस्मेंट के आधार पर दिए जाएंगे.

ये भी पढ़ें - थोक दवा विक्रेताओं ने फार्मा कंपनियों से मांगा GST

ये भी पढ़ें - एडमिट कार्ड में गलत परीक्षा केंद्र के नाम होने से अभ्यर्थियों को हुई परेशानी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 17, 2019, 11:42 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर