Weather in Himachal: हिमाचल में भारी बारिश-बर्फबारी, 3 NH समेत 250 सड़कें बंद

शिमला में बर्फबारी में फंसी बस.

शिमला में बर्फबारी में फंसी बस.

Weather in Himachal: शिमला, सोलन, सिरमौर, मंडी, कुल्लू, चंबा, किन्नौर और लाहौल स्पीति में रविवार से मौसम साफ रहने का पूर्वानुमान है. 25 से 27 अप्रैल तक पूरे प्रदेश में धूप खिलने की संभावना है. 28 और 29 अप्रैल को दोबारा मौसम करवट लेगा. उधर, केलांग और कल्पा में न्यूनतम तापमान माइनस में चला गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 24, 2021, 7:52 AM IST
  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश में तीन दिन मौसम (Weather) ने जमकर कहर बरसाया है. ऊंचाई वाले इलाकों में जहां अप्रैल महीने में बर्फबारी ने रिकॉर्ड तोड़ा है. वहीं, मैदानी इलाकों मे भी खूब पानी बरसा है. पर्यटन नगरी मनाली में तो शुक्रवार को 25 साल का अप्रैल का बर्फबारी का रिकॉर्ड टूट गया. शिमला के नारकंडा-खड़ापत्थर भी बर्फबारी से लकदक हो गए. हालांकि, बर्फबारी और ओले गिरने से सेब और गेहूं को भारी नुकसान हुआ है. वहीं, शनिवार को भी बारिश का अनुमान है. हालांकि, सूबे के तमाम इलाकों में सुबह धूप खिली है.

कहां कहां मचाया कहर

हिमाचल में बारिश के चलते शिमला में पांच मंजिला मकान गिर गया. हालांकि, किसी तरह का जानी नुकसान नहीं हुआ. कड़छम में पहाड़ी से पत्थर गिरने से बिजली टावर क्षतिग्रस्त हो गया. सूबे में 3 नेशनल हाईवे समेत 250 से ज्यादा सड़कें बंद हैं. चंबा के पांगी और लाहौल घाटी का संपर्क कट गया है. मुख्य सचिव अनिल कुमार खाची ने बर्फबारी और ओलावृष्टि से हुए नुकसान पर डीसी, कृषि और बागवानी विभागों से रिपोर्ट तलब की है. मनाली-लेह, आनी-कुल्लू और शिमला-किन्नौर नेशनल हाईवे बंद रहे.

तापमान में भारी गिरावट
शिमला के डीसी ने बताया कि नुकसान का आंकलन किया जा रहा है और रिपोर्ट तैयार की जाएगी. जलोड़ी जोत में बर्फबारी से कुल्लू से आनी का संपर्क भी कट गया. प्रदेश में 613 ट्रांसफार्मर क्षतिग्रसित हैं. अहम बात यह है कि प्रदेश का अधिकतम तापमान सामान्य से 12 डिग्री कम हुआ है.

लाहौल में हिमखंड गिरने से चंद्रा नदी का बहाव तीन घंटे रुक गया.


चंद्रा का बहाव रूका



किन्नौर और लाहौल में हिमखंड गिjरे हैं. इससे लाहौल में चंद्रा नदी का बहाब तीन घंटे रुक गया. मनाली समेत पूरी ऊझी घाटी में 1996 के बाद अप्रैल के अंतिम सप्ताह हिमपात नहीं हुआ था. रोहतांग दर्रा के साथ अटल टनल रोहतांग तथा हाईवे 305 पर बर्फबारी होने से जनजीवन ठहर गया है. लाहौल और कुल्लू में बर्फबारी व भूस्खलन से 100 से अधिक सड़कें बंद है.आनी के करंथल में पहाड़ी से पत्थर गिरने से एक बस और ट्रक के शीशे टूट गए. ट्रक चालक को हल्की चोटें भी आई हैं. भरमौर-पांगी के तहसील मुख्यालयों में भी करीब दो दशक के बाद हिमपात हुआ है. जिला चंबा के 56 सड़कें बंद हैं. शुक्रवार को भूस्खलन से करीब नौ करोड़ का नुकसान हुआ है. जिला कांगड़ा में धौलाधार और बरोट-मुल्थान क्षेत्रों में बर्फबारी हुई है.

सूबे में कई जगह लैंडस्लाइड हुए हैं.


रिकॉर्ड तोड़ बारिश

शिमला में बुधवार रात से गुरुवार रात तक 86 मिलीमीटर बारिश हुई, जो कि 42 वर्ष बाद अप्रैल में सबसे अधिक बारिश है. इससे पहले 15 अप्रैल, 1979 को शिमला में 24 घंटों में 111 मिलीमीटर बारिश हुई थी. इस वर्ष अप्रैल में अभी तक सामान्य से तीन फीसदी अधिक बारिश हो चुकी है. एक से 23 अप्रैल तक प्रदेश में 67.5 मिलीमीटर बारिश हुई. प्रदेश के मध्य और उच्च पर्वतीय जिलों में शनिवार को हल्की बारिश और बर्फबारी का पूर्वानुमान है. ऊना, बिलासपुर, हमीरपुर और कांगड़ा में शनिवार को मौसम साफ रहेगा.

फिर खराब होगा मौसम

वहीं, शिमला, सोलन, सिरमौर, मंडी, कुल्लू, चंबा, किन्नौर और लाहौल स्पीति में रविवार से मौसम साफ रहने का पूर्वानुमान है. 25 से 27 अप्रैल तक पूरे प्रदेश में धूप खिलने की संभावना है. 28 और 29 अप्रैल को दोबारा मौसम करवट लेगा. उधर, केलांग और कल्पा में न्यूनतम तापमान माइनस में चला गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज