कोरोना संकट के बीच स्कूलों में पूरा सिलेबस पढ़ाएगा हिमाचल
Shimla News in Hindi

कोरोना संकट के बीच स्कूलों में पूरा सिलेबस पढ़ाएगा हिमाचल
हिमाचल में स्कूलों में पढ़ाई.

Study in Schools: शिक्षा एवं भाषा संस्कृति मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि मंदिर खोलने को फैसला अब 4 सितंबर को होगा.

  • Share this:
शिमला. कोरोना संकट (Corona) के चलते एनसीईआरटी (NCRT) ने सिलेबस को 30 प्रतिशत कम करने के राज्यों (State) को निर्देश दिए हैं, ताकि छात्रों को पढ़ाई के समय मानसिक दबाव न रहे. हालांकि हिमाचल में शिक्षा विभाग पूरा सिलेबस (Syllabus) पढ़ाने का फैसला लिया है.

हिमाचल में सिलेबस कम करने को लेकर शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर (Govind Thakur) ने शिक्षा अधिकारियों के साथ वर्चुअल बैठक की, जिसमें शिक्षा सचिव राजीव शर्मा, शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष सुरेश सोनी सहित तमाम अधिकारी मौजूद रहे. बैठक में हिमाचल ने फैसला किया है कि पहली से 12 वीं तक पूरा सिलेबस पढ़ाया जाएगा, लेकिन परीक्षाओं में सवाल 70 प्रतिशत सिलेबस के ही आएंगे और बाकी तीस प्रतिशत सिलेबस के प्रश्न वैकल्पित होंगे. इनके उत्तर देने वाले छात्रों को इंटरनल असेसमेंट के दौरान इसका लाभ मिलेगा. शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने इसकी पुष्टि की है.

पढ़ाई के लिए जुटाए जाएंगे 50 से 60 दिन 



कोरोना संकट के चलते छात्रों की पढ़ाई बुरी तरह प्रभावित हुई है. हालांकि, इस वक्त ऑनलाइन पढ़ाई का तरीका अपनाया गया है. जहां संभव नहीं है, वहां पर लिखित पाठ्य सामग्री भी पहुंचाई गई है. फिर भी जब अनॅलाक 5 में स्कूल खुलेंगे तो पढ़ाई के लिए समय कम बचेगा, इसलिए शिक्षा विभाग ने फैसला किया है कि विंटर वेकेशन नहीं दी जाएगी. साथ ही द्वितीय शनिवार की छुट्टी भी स्कूलों में खत्म होगी, ताकि छात्रों की पढ़ाई के लिए अतिरिक्त समय मिल सके. इसके अलावा, फरवरी में होने वाले प्रेक्टिकल एग्जाम इस बार मार्च में वार्षिक परीक्षा के उपरांत अप्रैल में होंगे.
मंदिर खोलने पर फैसला 4 सितंबर को 

शिक्षा एवं भाषा संस्कृति मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि मंदिर खोलने को फैसला अब 4 सितंबर को होगा. एसओपी तैयार है. मंत्रिमंडल के सभी सहयोगियों के साथ बातचीत में बाद मंदिर खोलने के आदेश जारी होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज