फिर धधक उठी ज्वाला! क्यों हो रहा है भाजपा MLA रमेश ध्वाला का ‘विरोध’?

रमेश चंद ध्वाला कांगड़ा के ज्वालामुखी से विधायक हैं. 12 अप्रैल 1951 में जन्में ध्वाला 1998 में पहली बार आजाद प्रत्याशी के तौर पर चुनाव जीते और विधायक बने. इस दौरान उन्होंने प्रदेश में भाजपा की सरकार बनाने में अहम भूमिका अदा की. ध्वाला चार बार के विधायक हैं. कैबिनेट मंत्री भी रहे हैं. मौजूदा समय में राज्य योजना बोर्ड के उपाध्यक्ष हैं.

News18 Himachal Pradesh
Updated: July 22, 2019, 1:21 PM IST
फिर धधक उठी ज्वाला! क्यों हो रहा है भाजपा MLA रमेश ध्वाला का ‘विरोध’?
भाजपा के सदस्यता अभियान के दौरान रमेश चंद ध्वाला. (बीच में-फाइल फोटो)
News18 Himachal Pradesh
Updated: July 22, 2019, 1:21 PM IST
क्या भाजपा के विधायक रमेश ध्वाला का विरोध इसलिए किया जा रहा है कि कहीं कैबिनेट में खाली पद उन्हें ना मिल जाए? कम से कम खुद ध्वाला का तो यही मानना है. समय-समय पर चर्चाओं में बने रहने वाले कांगड़ा के ज्वालामुखी से भाजपा के विधायक और योजना बोर्ड के उपाध्यक्ष ध्वाला के खिलाफ इन दिनों उन्हीं के इलाके के लोग मुखर हैं. आलम यह है कि एक प्रतिनिधिमंडल शिमला आकर उनके खिलाफ सीएम जयराम ठाकुर से शिकायत करता है कि वह इलाके का विकास नहीं हो रहे दे रहे हैं. इस मुद्दे पर सीएम जयराम ठाकुर से लेकर खुद ध्वाला को स्पष्टीकरण देना पड़ा.

ये बोले रमेश ध्वाला
न्यूज 18 हिमाचल से रमेश धवाला ने उन पर लगाए आरोपों को लेकर खुलकर बात की. रमेश धवाला ने आरोप लगाया कि एक षड़यंत्र के तहत उनकी छवि और चरित्र को खराब करने की कोशिश की जा रही है. सरकार में दो मंत्री के पद खाली हुए हैं, इसलिए कुछ लोगों को लग रहा कि वो मंत्री न बन जाएं, जबकि मेरी कोई इच्छा नहीं है. जिस कुशल ठाकुर और अभिषेक पाधा के नेतृत्व में कुछ लोग सीएम से मिलने पहुंचे थे वो मंडल से पहले ही निष्कासित किए गए हैं और बीजेपी के प्राथमिक सदस्य भी नहीं हैं. इन्हें पाटी से निष्कासित करने के लिए हाईकमान को से भी गुजारिश की गई है, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है.

सीएम जयराम ठाकुर के साथ रमेश चंद ध्वाला. (फोटो फोटो)
सीएम जयराम ठाकुर के साथ रमेश चंद ध्वाला. (फोटो फोटो)


‘बहुत से कांग्रेसी नेता थे’
धवाला ने कहा कि सीएम जयराम ठाकुर खुद इस बात की समीक्षा करेंगे कि गलत कौन है और सही कौन है, जो लोग सीएम से मिलने पहुंचे थे उनमें से 10 से ज्यादा प्रधान कांग्रेसी थी जिनमें कुछ ऐसे भी प्रधान थे जिन्होंने बीजेपी के झंडे जलाए हैं, ज्वालामुखी के चंगर क्षेत्र में जो शिलान्यास और उद्घाटन लंबित पड़े हैं उन्हें करवाने के लिए सीएम को भी पत्र लिखा है. जैसे ही निर्माण कार्य पूरा हो जाता है उनका उद्घाटन भी किया जाएगा.

ये बोले सीएम जयराम ठाकुर
Loading...

सीएम जयराम ठाकुर का कहना है कि विधायक रमेश ध्वाला के प्रति जनता में कोई नाराजगी नहीं है, बल्कि, जनता अपने इलाके में और ज्यादा विकास करवाना चाहती है, जिसकी तरफ सरकार और विधायक पूरा ध्यान दे रहे हैं. सीएम जयराम ठाकुर ने विधायक का बचाव किया और उन्होंने कहा कि ज्वालामुखी विधानसभा क्षेत्र के कुछ लोग उनसे मिलने के लिए आए थे और उन्होंने अपने क्षेत्र के विकास कार्यों के बारे में बात रखी है. उन्होंने कहा कि सरकार विकास कार्यों की तरफ पूरा ध्यान दे रही है. जनता की विकास के प्रति जो भी मांगें हैं उन्हें जल्द पूरा किया जाएगा.

आज शिमला में भाजपा की बैठक
सीएम जयराम ठाकुर ने सोमवार के लिए शिमला में भाजपा नेताओं की बैठक बुलाई है. विधानसभा चुनाव जीते और हारे भाजपा प्रत्याशियों के साथ सीएम जयराम ठाकुर बैठक करेंगे. यह बैठक ओक ओवर, शिमला में 6 बजे होगी. भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सत्ती और संगठन मंत्री पवन राणा भी इसमें शिरकत करेंगे. धवाला और इंदू गोस्वामी घटनाक्रम पर भी बैठक में चर्चा होगी.

कैबिनेट में दो पद खाली
हिमाचल कैबिनेट में मौजूदा समय में दो मंत्रीपद खाली चल रहे हैं. अनिल शर्मा और किशन कपूर के इस्तीफे के बाद दो पद खाली है. इसी को लेकर सियासी उठापटक जारी है. हिमाचल में नई सरकार के गठन के दौरान वरिष्ठ होने के बावजूद रमेश ध्वाला को कैबिनेट में जगह नहीं मिली थी.

कौन हैं ध्वाला
रमेश चंद ध्वाला कांगड़ा के ज्वालामुखी से विधायक हैं. 12 अप्रैल 1951 में जन्में ध्वाला 1998 में पहली बार आजाद प्रत्याशी के तौर पर चुनाव जीते और विधायक बने. इस दौरान उन्होंने प्रदेश में भाजपा की सरकार बनाने में अहम भूमिका अदा की. ध्वाला चार बार के विधायक हैं. कैबिनेट मंत्री भी रहे हैं. मौजूदा समय में राज्य योजना बोर्ड के उपाध्यक्ष हैं.

ये भी पढ़ें: विधायक ध्वाला और इंदु गोस्वामी पर CM जयराम का अहम बयान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 22, 2019, 11:27 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...