जीवीके कंपनी का दावा, 108 एंबुलेंस सेवा को बदनाम करने की साजिश

डीवीडी प्रसाद ने बताया कि साजिश के तहत 108 और 102 एंबुलेंस सेवा को बदनाम कर उसे असफल घोषित करने का प्रयास किया जा रहा है. जिसमें अवांछित यूनियन अपनी अहम भूमिका निभा रही है. वहीं मरीजों को इसका सबसे बड़ा दंश झेलना पड़ रहा है.

Kirti Kaushal | News18 Himachal Pradesh
Updated: September 9, 2018, 10:29 AM IST
जीवीके कंपनी का दावा, 108 एंबुलेंस सेवा को बदनाम करने की साजिश
सांकेतिक तस्वीर.
Kirti Kaushal | News18 Himachal Pradesh
Updated: September 9, 2018, 10:29 AM IST
प्रदेश में 108 और 102 एंबुलेंस सेवा को साजिश के तहत बदनाम किया जा रहा है. यह कहना है जीवीके कंपनी के नए स्टेट हेड डीवीडी प्रसाद का. सोलन में एंबुलेंस सेवा प्रदाता कंपनी जीवीके के नए स्टेट हेड डीवीडी प्रसाद ने कहा कि कुछ माह से 108 आपातकालीन सेवा ठीक से काम नहीं कर पा रही है, क्योंकि उनके कुछ कर्मचारी अवांछित कर्मचारी यूनियन द्वारा गुमराह हुए हैं.

डीवीडी प्रसाद ने कहा कि उनका संस्थान किसी भी यूनियन को मान्यता नहीं दे रहा है, लेकिन कुछ तथाकथित यूनियन नेता जो उनके संस्थान में कार्यरत नहीं है. वे अपना आर्थिक हित साधने के लिए कर्मचारियों को गुमराह करते जा रहे हैं, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा और इस माह के अंत तक प्रदेश में एंबुलेंस सेवा फीस से बहाल होगी और पहले जैसे सेवाएं देंगी.

डीवीडी प्रसाद ने बताया कि साजिश के तहत 108 और 102 एंबुलेंस सेवा को बदनाम कर उसे असफल घोषित करने का प्रयास किया जा रहा है. इसमें अवांछित यूनियन अपनी अहम भूमिका निभा रही है. इस साजिश के चलते जहां एक ओर कंपनी के कर्मचारी प्रभावित हो रहे हैं, वहीं मरीजों को इसका सबसे बड़ा दंश झेलना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि जीवीके ने इस समस्या का हल निकाल लिया है और जल्द ही कंपनी अपने कर्मचारियों का विश्वास जीतेगी और एक बार फिर से एंबुलेंस सेवा बहाल होगी.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर