Drug Alert: देशभर की 22 दवाओं के साथ हिमाचल के 5 उद्योगों की दवाएं फेल

सांकेतिक तस्वीर.

सांकेतिक तस्वीर.

Drugs Alert in Himachal: वर्ष 2020 में देशभर में फेल हुई दवाओं में हिमाचल की 84 दवाएं फेल हो चुकी है, जबकि वर्ष 2019 में 100 से अधिक दवाओं के सैंपल फेल हुए थे. प्रदेशभर में करीब 750 फार्मा उद्योग स्थापित है.

  • Share this:

बद्दी (सोलन). हिमाचल (Himachal Pradesh) के दवा उद्योगों में बन रही दवाओं में से ताजातरीन ड्रग अलर्ट (Drug Alert) में पांच उद्योगों की दवाएं फेल हो गई हैं. देशभर की फेल हुई 22 और 1 सर्वे की दवाओं में से प्रदेश के पांच उद्योगों की दवाएं इसमें शामिल है, जिसमें से फार्मा हब बीबीएन की दो और सिरमौर, कांगड़ा (Kangra) व परवाणु के उद्योगों की एक-एक दवा शामिल है. केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रक संगठन (सीडीएससीओ) के ताजातरीन ड्रग अलर्ट में देशभर से अप्रैल माह में 931 दवाओं के सैंपल एकत्रित किए थे, जिसमें से 908 दवाएं मानकों पर खरा उतरी और 22 दवाएं सब स्टैंडर्ड पाई गई.

लगातार फेल हो रहे सैंपल

वर्ष 2020 में देशभर में फेल हुई दवाओं में हिमाचल की 84 दवाएं फेल हो चुकी है, जबकि वर्ष 2019 में 100 से अधिक दवाओं के सैंपल फेल हुए थे. प्रदेशभर में करीब 750 फार्मा उद्योग स्थापित है, जिनमें से कई उद्योगों में निर्मित दवाओं पर सवाल उठते ही रहे है और सीडीएससीओ द्वारा हर माह दिए जाने वाले ड्रग अलर्ट के बाद विभाग हरकत में आता है और सैंपल फेल होने वाली दवाओं का बैच मार्किट से उठा लिया जाता है.

इन दवाओं के सैंपल फेल
फेल होने वाली दवाओं में मैसर्ज लाइफ केअर न्यूरो प्रोडक्ट्स लिमिटेड धर्मपुर फेज-2 बददी की रियलहिम (टेडलफिल-10एमजी) का बैच नंबर-एलसी9एल225, मैसर्ज सिरमौर रिमेडिज प्राइवेट लिमिटेड गांव लियारडा मिसरवाल पांवटा साहिब जिला सिरमौर की स्पिनोबैक (बेक्लोफेम-10एमजी) का बैच नंबर-के3एएलटी001, मैसर्ज श्री साई बालाजी फार्माटेक इंडस्ट्रियल एरिया बददी की एसिलोफेनक पेरासिटामोल सेरोटीपेपटाईडेज (एसिलोपैरा-एसपी) का बैच नंबर-एसएसटी-0657, मैसर्ज केअर मैक्स फार्मूलेशन इंडस्ट्रियल एरिया फेज-3 संसारपुर टेरेस कांगड़ा की टेलमीसारटन 40 एमजी का बैच नंबर-सीएलटी-14747, मैसर्ज मोरपिन लैबोरेटरीज लिमिटेड सेक्टर-2 परवाणु की ओरवेस्टिन-20 का बैच नंबर-पी-0एच0440 फेल हो गया है. इन दवाओं के सैंपल सीडीएससीओ ईस्ट जोन कोलकाता, सीडीएससीओ वेस्ट जोन मुंबई, सीडीएससीओ नार्थ जोन, सीडीएससीओ सब जोन बददी से लिए गए थे, जबकि इनकी जांच सीडीएल कोलकता, सीडीटीएल मुंबई, आरडीटीएल चंडीगढ़ में हुई है. यह दवाएं उच्च रक्तचाप, स्तंभन दोष, मांसपेशियों में आराम, कोलोस्ट्रोल, दर्द निवारण आदि के उपचार में काम में लाई जाती है.

क्या बोले अधिकारी

राज्य दवा नियंत्रक नवनीत मारवाहा ने कहा कि सैंपल फेल होने वाले उद्योगों को नोटिस जारी कर दिए है, वहीं फेल हुए सैंपलों के बैच मार्किट से हटाने के निर्देश के साथ दवा निरीक्षकों को इन पर कार्रवाई करने के आदेश जारी कर दिए गए है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज