हिमाचल के DGP ने सोलन थाने में मारा छापा, पुलिस कर्मचारियों में मचा हड़कंप

डीजीपी ने थाने के प्रत्येक कमरे, मालखाने सहित अन्य सभी जगहों का निरीक्षण किया.

News18 Himachal Pradesh
Updated: September 11, 2018, 4:55 PM IST
हिमाचल के DGP ने सोलन थाने में मारा छापा, पुलिस कर्मचारियों में मचा हड़कंप
थाने का निरीक्षण करते डीजीपी.
News18 Himachal Pradesh
Updated: September 11, 2018, 4:55 PM IST
हिमाचल प्रदेश के सोलन थाने में मंगलवार को प्रदेश डीजीपी ने औचक निरीक्षण किया. उनके थाने में पहुंचने से पुलिस कर्मियों में हड़कंप मच गया. डीजीपी हिमाचल को थाने पहुंचने पर गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया.

इस दौरान डीजीपी ने थाने के प्रत्येक कमरे, मालखाने सहित अन्य सभी जगहों का निरीक्षण किया. उन्होंने इस अवसर पर थाना अधिकारी को आवश्यक दिशा निर्देश भी जारी किए.

इस दौरान डीजीपी सीताराम मरडी ने कहा कि वह आने वाले समय में भी इसी तरह अन्य थानों का निरीक्षण करेंगे. औचक निरीक्षण से सारा स्टाफ चुस्त दुरुस्त रहता है. मरडी ने कहा की पुलिसकर्मियों की समस्याओं को भी सरकार के समक्ष रखा जाएगा.

उन्होंने कहा कि आमतौर पर देश में एक अधिकारी के पास जांच के लिए 25 केस होते हैं. इसी तर्ज पर प्रदेश में जांच अधिकारियों के पास कितना कार्य है, इसी हिसाब अधिकारियों की संख्या थानों में बढ़ाई या घटाई जाएगीय उनहोने कहा कि पुलिस का कार्य कानून की अनुपालना करना और लागू करना है.

नशे के खिलाफ अभियान
डीजीपी ने कहा कि पुलिस ने नशे को लेकर एक बहुत बड़ा अभियान छेड़ा है, जिसके तहत पूरे प्रदेश में तकरीबन सवा तीन क्विंटल चरस और 6 किलो चिट्टा पकड़ा गया है. नशे के कारोबार में अंतराष्ट्रीय स्तर के नशा कारोबारियों को पकड़ा है. मरडी ने कहा कि प्रदेश में दिल्ली और जम्मू से चिट्टा लाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि पुलिस नशे के काले कारोबार रोकने के लिए दृढ़ संकल्प है और वह किसी भी हाल में प्रदेश में नशे को फैलने नहीं देंगे.

उन्होंने कहा कि नशे के कारोबार को काबू करने के लिए दो तरह से कार्य किया जा रहा है, जिसमे सबसे पहले तो  प्रदेश में किसी भी तरह के नशे की सप्लाई पर रोक लगाई जा रही है, वहीं दूसरी तरफ नशे के दुष्प्रभाव को लेकर लोगो को जागरूक किया जा रहा है. नशे पर रोक लगाने के लिए मशहूर लोगों का भी सहयोग लिया जा रहा है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर