हिमाचल प्रदेश: हार्डवेयर दुकानदार की बेटी बनी IAS, पहली कोशिश में ही मिला 87वां रैंक

मुस्कान जिंदल की दो बहनें और एक भाई है.
मुस्कान जिंदल की दो बहनें और एक भाई है.

मुस्कान जिंदल के पिता पवन जिंदल (Pawan Jindal) बद्दी में एक हार्डवेयर की दुकान चलाते हैं. मुस्कान की माता ज्योति जिंदल गृहणी हैं.

  • Share this:
सोलन. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के सोलन जिले में अभी खुशी का माहौल है, क्योंकि ओद्योगिक शहर बद्दी की रहने वाली 22 वर्षीय मुस्‍कान जिंदल (Muskan Jindal) ने संघ लोक सेवा आयोग की सिवि‍ल सेवा परीक्षा पास की है. खास बात यह है कि मुस्‍कान जिंदल ने पहली कोशिश में ही यह सफलता पाई है. उन्हें पूरे देश में 87वां रैंक मिला है. अब मुस्‍कान जिंदल के आईएएस (IAS) बनने से बद्दी ही नहीं बल्कि पूरे हिमाचल प्रदेश के लोग खुश हैं. लोगों का कहना है कि मुस्‍कान ने पूरे प्रदेश का नाम देश में रोशन किया है. अब वह देश के लिए प्रशासनिक सेवाएं देंगी.

मुस्‍कान जिंदल का फाइनल इंटरव्यू दिल्ली में 28 जुलाई को हो चुका है. वहीं, मेडिकल के परिणाम आने के बाद आइएएस परीक्षा का अंतिम रिजल्ट जारी कर दिया गया है. मुस्कान जिंदल के आइएएस बनने से पूरे हिमाचल में खुशी का माहौल है.

पिता पवन जिंदल बद्दी में एक हार्डवेयर की दुकान चलाते हैं
जानकारी के मुताबिक, मुस्कान जिंदल के पिता पवन जिंदल (Pawan Jindal) बद्दी में एक हार्डवेयर की दुकान चलाते हैं. मुस्कान की माता ज्योति जिंदल गृहणी हैं. मुस्कान जिंदल की दो बहनें और एक भाई है. मुस्कान के पिता पवन जिंदल ने बताया उनकी बेटी बद्दी के वीआर पब्लिक स्कूल से पढ़ी हैं और 10वीं और 12वीं कक्षा में उन्होंने 96 फ़ीसद नंबर लेकर स्कूल में टॉप किया था.
ये भी पढ़ें- दिल्ली में बंद नहीं होंगी मुफ्त योजनाएं, खर्चे घटाकर Corona से लड़ेगी सरकार



चंडीगढ़ के एसडी कॉलेज से बीकॉम किया था
उसके बाद उन्होंने चंडीगढ़ के एसडी कॉलेज से बीकॉम किया. इसी दौरान उन्होंने आईएएस परीक्षा के लिए भी तैयारियां शुरू कर दी थी.  मुस्कान ने पहले प्रयास में ही आइएएस की परीक्षा उत्‍तीर्ण कर ली. लाखों लोगों की इस परीक्षा में उन्होंने टॉप 100 में अपनी जगह बना कर मिसाल कायम की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज