VIDEO: यहां जाने, क्यों और कैसे कैप्सिकम का शिमला मिर्च नाम पड़ा?

हिमाचल प्रदेश में 2600 हेक्टेयर भूमि में इसकी पैदावार होती है, जिसमे अकेले सोलन जिला में इसकी आधी यानी करीब 1250 हेक्टेयर में इसकी खेती कि जाती है. इसके साथ-साथ शिमला, सिरमौर और मंडी जिला में भी इसकी खेती होती है.

Sunil kumar | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 18, 2019, 5:24 PM IST
Sunil kumar | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 18, 2019, 5:24 PM IST
क्या आप जानते हैं कैसे कैप्सिकम का नाम शिमला मिर्च पड़ा? क्या आप जानते हैं कैसे यहा सब्जी हमारे देश में आई और कौन इसे यहां लाया? देश के अधिकतर लोग कैप्सिकम को ‘शिमला मिर्च’ के नाम से जानते हैं. यह ना केवल हरी सब्जी के रूप में काम आती है, बल्कि इसे पोलीहाउस के अंदर सलाद के रूप में भी उगाया जाता है. बड़े-बड़े शहरों में होटलों में इसकी काफी मांग रहती है.

ऐसे पड़ा नाम
दरअसल, ब्रिटिश शासन में जब अंग्रेज भारत आए तो वे इसका बीज भी लेकर आए. उन्होंने इसे जब इंटरड्यूस किया तो उस समय शिमला देश की समर कैपिटल थी. अंग्रेजों ने इसे शिमला हिल्स के आसपास उगाया और यहां काफी अच्छी पैदावार हुई. पैदावार के बाद इसे देश के अन्य इलाकों में भेजा जाने लगा. क्योंकि, शिमला के आसपास के क्षेत्रों में सबसे पहले इसे उगाया गया तो तब से लोगों कि यह धारणा बन गई कि यह सब्जी शिमला में उगाई जाती है तो धीरे धीरे इसका नाम शिमला मिर्च हो गया.

हिमाचल में बड़े पैमाने पर शिमला मिर्च की खेती होती है.
हिमाचल में बड़े पैमाने पर शिमला मिर्च की खेती होती है.


हिमाचल में 2600 हेक्टर में उत्पादन
हिमाचल प्रदेश में 2600 हेक्टेयर भूमि में इसकी पैदावार होती है, जिसमे अकेले सोलन जिला में इसकी आधी यानी करीब 1250 हेक्टेयर में इसकी खेती कि जाती है. इसके साथ-साथ शिमला, सिरमौर और मंडी जिला में भी इसकी खेती होती है.

शिमला मिर्च का कई सब्जियों के साथ मिश्रण किया जाता है.

Loading...

ये बोले वैज्ञानिक
बागवानी और वानिकी यूनिवर्सिटी नौणी, सोलन के सब्जी विज्ञान विभाग के वैज्ञानिक डा दविंदर मेहता ने बताया कि जिस समय ब्रिटिश भारत आए तो वे इसका बीज भी लेकर आए. शिमला हिल्स के आसपास काफी अच्छी पैदावार हुई तो देश के अन्य इलाकों में इसे भेजा जाने लगा. इस कारण लोगों ने माना कि यह शिमला में पैदा होती है, जिसके चलते इसका नाम शिमला मिर्च पड़ गया.

ये भी पढ़ें: होटल बुकिंग के नाम पर बड़ा फ्रॉड! OYO कंपनी के खिलाफ शिकायत

सोलन में एक और 3 मंजिला भवन गिरने की कगार पर, खाली करवाया

मंडी: समर वीकेशन में भी निजी स्कूलों में ‘एक्सट्रा क्लासेज’

कुल्लू-मनाली में सड़क हादसे: 1 मौत, थाना प्रभारी समेत 3 घायल

चीन नहीं, तिब्बत करेगा मेरे उत्तराधिकारी का फैसला: दलाई लामा

शिमला से शिफ्ट नहीं होगा सेना प्रशिक्षण कमान का मुख्यालय
First published: July 18, 2019, 5:04 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...