Home /News /himachal-pradesh /

चंबा की चप्पल को नए रंग में ढालने की तैयारी

चंबा की चप्पल को नए रंग में ढालने की तैयारी

देश-विदेश तक अपनी पहचान बना चुकी चंबा की चप्पल को नए रंग में ढालने और इसकी मांग बाहरी राज्यों तक पहुंचाने की दिशा में प्रयास शुरू हो गए हैं.इसी कड़ी में इन दिनों दिल्ली की एक पर्ल अकादमी और फैशन अकादमी लंदन के स्टूडेंट चंबा में चप्पल बनाने की विभिन्न विधाएं सीख रहे हैं.चंबा चप्पल का काम सीखने के लिए यह दिल्ली और लंदन के स्टूडेंट चंबा में डेरा डाले हुए हैं.

देश-विदेश तक अपनी पहचान बना चुकी चंबा की चप्पल को नए रंग में ढालने और इसकी मांग बाहरी राज्यों तक पहुंचाने की दिशा में प्रयास शुरू हो गए हैं.इसी कड़ी में इन दिनों दिल्ली की एक पर्ल अकादमी और फैशन अकादमी लंदन के स्टूडेंट चंबा में चप्पल बनाने की विभिन्न विधाएं सीख रहे हैं.चंबा चप्पल का काम सीखने के लिए यह दिल्ली और लंदन के स्टूडेंट चंबा में डेरा डाले हुए हैं.

देश-विदेश तक अपनी पहचान बना चुकी चंबा की चप्पल को नए रंग में ढालने और इसकी मांग बाहरी राज्यों तक पहुंचाने की दिशा में प्रयास शुरू हो गए हैं.इसी कड़ी में इन दिनों दिल्ली की एक पर्ल अकादमी और फैशन अकादमी लंदन के स्टूडेंट चंबा में चप्पल बनाने की विभिन्न विधाएं सीख रहे हैं.चंबा चप्पल का काम सीखने के लिए यह दिल्ली और लंदन के स्टूडेंट चंबा में डेरा डाले हुए हैं.

अधिक पढ़ें ...
देश-विदेश तक अपनी पहचान बना चुकी चंबा की चप्पल को नए रंग में ढालने और इसकी मांग बाहरी राज्यों तक पहुंचाने की दिशा में प्रयास शुरू हो गए हैं.इसी कड़ी में इन दिनों दिल्ली की एक पर्ल अकादमी और फैशन अकादमी लंदन के स्टूडेंट चंबा में चप्पल बनाने की विभिन्न विधाएं सीख रहे हैं.चंबा चप्पल का काम सीखने के लिए यह दिल्ली और लंदन के स्टूडेंट चंबा में डेरा डाले हुए हैं.

इस दौरान जहां यह चंबा के कारीगरों से चप्पल बनाने की विधि सीख रहे हैं.वहीं चप्पल को नए रंग में ढालने के अपने विचार भी सांझा कर रहे हैं ताकि इस चप्पल को और आकर्षक बनाया जा सके ताकि बाजार में इसकी मांग बढ़े.

दिल्ली और लंदन से चंबा की चप्पल की कला सीखने आए स्टूडेंट के अनुसार वो यहां चंबा की चप्पल बनाने की कला सीख रहे हैं और उन्हें यहां काफी कुछ सीखने को मिला है.चंबा की चप्पल को नया रूप देने के प्रयास भी किए जा रहे हैं ताकि इसकी मांग और बढ़े.

पर्ल अकादमी से आए प्रतीक वशिष्ठ के अनुसार पिछले तीन साल से उनकी अकादमी के स्टूडेंट यहां आकर काम कर रहे हैं और यहां के काफ्ट का ज्ञान ले रहे हैं.इस समय चंबा की चप्पल बनाने की कला यह स्टूडेंट सीख रहे हैं ताकि इस काफ्ट को वह सीखें और इसे नया रूप देने के भी प्रयास किए जा रहे हैं ताकि चंबा की चप्पल की मांग और बढ़े.

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

 

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर