अस्पताल प्रशासन की बेरुखी के कारण गई बुजुर्ग की जान

ETV Bihar/Jharkhand
Updated: November 15, 2017, 3:05 PM IST
अस्पताल प्रशासन की बेरुखी के कारण गई बुजुर्ग की जान
सोलन अस्पताल की लापरवाही के कारण बुजुर्ग की मौत.
ETV Bihar/Jharkhand
Updated: November 15, 2017, 3:05 PM IST
हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले के अस्पताल में दूर-दूर से ग्रामीण इलाज करवाने के लिए आते हैं. अस्पताल प्रशासन की बेरुखी के कारण मरीजों का उपचार से ज्यादा परेशानियां मिल रही हैं. अस्पताल प्रशासन की लापरवाही के कारण मंगलवार को एक बुजुर्ग व्यक्ति की मौत हो गई.

मंगलवार को एक युवती अपने दादा जी तबियत खराब होने के कारण अस्पताल में लेकर आई. अस्पताल में पहले तो चिकित्सकों ने उन्हें खतरे से बाहर बताया और जनरल वार्ड में शिफ्ट कर दिया और काफी समय तक मरीज की ओर गौर तक नहीं किया.

इसी बीच जब बजुर्ग की सांसे जवाब देने लगी तो परिजनों ने चिकित्सकों को बुलाया गया, तो उन्होंने बुजुर्ग को पीजीआई  रैफर कर दिया गया. 108 एम्बुलेंस को बुलाया गया, लेकिन एम्बुलेंस उपलब्ध नहीं थी. निजी गाड़ी में बजुर्ग को ले जाने के लिए आक्सीजन सिलेंडर की जरूरत थी.

युवती ने अस्पताल प्रशासन से सिलेंडर की मांग की, तो उन्होंने पांच हजार रुपये सिक्युरेटी की मांग की, जो युवती के पास नहीं थे. युवती अस्पताल प्रशासन से गुहार लगाती रही कि उसके पैसे नहीं हैं. दादा की तबियत खराब हो रही है आप गैस सिलेंडर उपलब्ध करवा दें. इस बीच बुजुर्ग की तबियत ज्यादा बिगड़ने के कारण बुजुर्ग ने वहीं दम तोड़ दिया.

बुजुर्ग व्यक्ति के साथ आए परिजनों ने रोष प्रकट करते हुए कहा कि अस्पताल प्रशासन की लापरवाही के बुजुर्ग की मौत हो गई. पहले चिकित्सकों ने ठीक से इलाज नहीं किया और फिर ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध नहीं करवाया. जिसके कारण बुजुर्ग की मौत हो गई.

स्थानीय लोगों ने कहा कि इस तरह की घटनाए सोलन अस्पताल में आम हो गई हैं. रोगी अपनी जान से हाथ धो बैठते हैं, लेकिन चिकित्सकों पर इसका कोई असर नहीं होता है.
First published: November 15, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर