सोलन हादसा: कम्बाइंड फुटिंग या राफ्ट नीवं रखी होती तो बच जाती 14 जानें

हिमाचल के सोलन जिले के कुमारहट्टी-नाहन मार्ग पर रविवार को एक बहुमंजिला इमारत ढह गई थी. हादसे में 14 लोगों की मौत हो गई थी. वहीं, 28 लोगों को रेस्क्यू किया गया.

Kirti Kaushal | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 18, 2019, 11:05 AM IST
सोलन हादसा:  कम्बाइंड फुटिंग या राफ्ट नीवं रखी होती तो बच जाती 14 जानें
सोलन में रविवार को एक चार मंजिला इमारत धराशायी हो गई थी. (फाइल फोटो)
Kirti Kaushal | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 18, 2019, 11:05 AM IST
हिमाचल के सोलन में कुमारहट्टी में हुए दिल झकझोर देने वाले हादसे से लोग उभर नहीं पा रहे है. यहां एक चार मंजिला इमारत के धराशायी होने से 13 फौजियों समेत 14 लोगों की मौत हो गई थी.

कुमारहट्टी की घटना को लेकर हिमाचल लोक निर्माण विभाग के सेवानिवृत्त प्लानिंग अधिकारी एआर शर्मा ने अपने 19 साल के अनुभव के आधार पर अपनी राय दी और बताया कि ऐसा लगता है कि भवन की नीवं ठीक से नहीं रखी गई. इसके अलावा, ना ही मिटटी का परीक्षण करवाया गया है. उन्होंने बताया कि पिल्लर सभी एक सीधाई में होने चाहिए थे. सख्त नीवं पर रखे जाने चाहिए लेकिन लोग एसा नहीं करते हैं. उन्होंने बताया कि आजकल जैसा आदेश मिस्त्री को दिया जाता है, वैसा ही निर्माण नियमों को दरकिनार कर वह कर देते हैं.

पहाड़ी इलाकों में ये करें
सेवानिवृत्त प्लानिंग अधिकारी एआर शर्मा ने बताया कि पहाड़ी क्षेत्र में इस तरह की घटनाओं से केवल कम्बाइंड फुटिंग या राफ्ट नीवं रख कर बचा जा सकता है. इस तकनीक के बारे में लोगों को जानकारी नहीं है और ना ही वह यह तकनीक अपनाते है. उन्होंने कहा कि मकान बनाने से पहले मिटटी का परीक्षण करवाना बेहद जरूरी है, लेकिन पैसे बचाने के चक्कर में लोग यह नहीं करते हैं. नियमों का पालन करना चाहिए और अच्छे आर्किटेक्ट से ही नक्शा भी बनाना चाहिए.

‘नियमों का पालन नहीं हो रहा’
आम लोगों की राय है कि आज कल जो भी निर्माण कार्य सोलन में हो रहा है, उसमें नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि पंचायत क्षेत्रों में ज्यादातर बहुमंजिला मकान बने हैं और बन भी रहे हैं. उनके लिए सख्त नियम बनाना बेहद जरूरी है. उन्होंने कहा कि अगर सख्त नियम नहीं बनाए जाएंगे तो इस तरह की घटनाओं पर नियन्त्रण नहीं किया जा सकता है.

ये है मामला
Loading...

हिमाचल के सोलन जिले के कुमारहट्टी-नाहन मार्ग पर रविवार को एक बहुमंजिला इमारत ढह गई थी. हादसे में 14 लोगों की मौत हो गई थी. वहीं, 28 लोगों को रेस्क्यू किया गया. मृतकों में 13 फौजी जवान, जबकि एक महिला शामिल थी. हादसे के दौरान इस चार मंजिला ढाबे के अंदर कुल 42 लोग थे. इनमें 30 सेना के जवान और 12 सिविलियन थे. सेना के 30 जवानों में से जहां 13 की मौत हो गई, वहीं रेस्क्यू किए गए 12 आम नागरिकों में से एक महिला को जान से हाथ धोना पड़ा.

ये भी पढ़ें: शिमला से शिफ्ट नहीं होगा सेना प्रशिक्षण कमान का मुख्यालय

मंडी में कल 70वें वन महोत्सव का आगाज करेंगे सीएम जयराम ठाकुर

हिमाचल: श्रीखंड महादेव यात्रा के दौरान एक श्रद्धालु की मौत

कांगड़ा में मर्डर: 10 हजार रुपये के लिए पिता को मार डाला

HRTC कंडक्टर ने पूछा-किराया कौन देगा? बुजुर्ग बोली-तेरा बाप
First published: July 18, 2019, 9:51 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...