ड्रग इंस्पेक्टर को दबंगई पड़ी भारी, फार्मा कंपनी की शिकायत पर हुआ निलंबित

औद्योगिक क्षेत्र बद्दी में सेंट्रल ड्रग स्टैंडर्ड कंट्रोल (सीडीएससीओ) कार्यालय में तैनात एक इंस्पेक्टर के विरुद्ध शिकायत मिली. केंद्र सरकार ने इस अधिकारी के खिलाफ मिली शिकायत के बाद उसे निलंबित कर जांच कमेटी गठित कर दी है.

Jagat Singh Bains | News18 Himachal Pradesh
Updated: November 10, 2018, 11:42 AM IST
ड्रग इंस्पेक्टर को दबंगई पड़ी भारी, फार्मा कंपनी की शिकायत पर हुआ निलंबित
औद्योगिक क्षेत्र बद्दी का एक दृश्य
Jagat Singh Bains | News18 Himachal Pradesh
Updated: November 10, 2018, 11:42 AM IST
हिमाचल प्रदेश के औद्योगिक क्षेत्र बद्दी में सेंट्रल ड्रग स्टैंडर्ड कंट्रोल (सीडीएससीओ) कार्यालय में तैनात एक इंस्पेक्टर के विरुद्ध शिकायत मिली. केंद्र सरकार ने इस अधिकारी के खिलाफ मिली शिकायत के बाद उसे निलंबित कर जांच कमेटी गठित कर दी है.

गौरतलब है कि करीब एक साल पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने हिमाचल के दवा निर्माताओं को एक्सपोर्ट एनओसी की सुविधा देने के लिए बद्दी में सीडीएससीओ कार्यालय खोला था. बरोटीवाला के रैडिको रैमीडीज फार्मा उद्योग ने केंद्र सरकार व लघु उद्योग भारती एवं हिमाचल ड्रग मैन्यूफैक्चरिंग एसोसिएशन को एक लिखित पत्र भेजकर शिकायत की थी कि कुछ इंस्पेक्टर इस सुविधा को अपनी दुकान व दबंगई कर दवा निर्माताओं को धमकाने व डराने का कार्य कर रहे थे.

आरोपी अधिकारी अपने पद का रौब जमाता था और किसी भी फैक्ट्र में घुस जाना, फैक्ट्री बंद कराने की धमकी देना, दुर्व्यवहार करना, नकली दवा का केस बनाकर नागरिकों में दवा निर्माण की छवि खराब करना इनकी आदतों में शुमार होता जा रहा था. उक्त अफसर पर लगे आरोपों की गहनता से जांच होगी और ऐसे अधिकारियों पर नकेल भी कसी जा सकेगी.

औद्योगिक क्षेत्र बरोटीवाला के रैडिको रैमीडीज उद्योग में जब सेंट्रल ड्रग इंस्पेक्टर कवियासन से कंपनी के लोगों ने परिचय मांगा तो इंस्पेक्टर से कंपनी संचालकों को ऐसी कई बातें सुनने को मिली, जिनका जिक्र खबर में किया जा चुका है.

दवा निर्माण कंपनी जो कि पिछले 13 वर्षों से मंधाला-बरोटीवाला में निर्माण कार्य कर रही है. यह दवा निर्माण कंपनी प्रतिष्ठित दवा निर्माण इकाई है. इस दवा कंपनी ने केंद्र सरकार, प्रदेश सरकार, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री व प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री को लिखित शिकायत भेजकर मदद की गुहार लगाई थी.

उपनिदेशक सीडीसीएसओ बद्दी बीके सामंतरे ने कहा कि हमारे पास इस संदर्भ में शिकायत आई थी, जिसकी जांच के बाद स्वास्थ्य मंत्रालय दिल्ली के निदेशक (प्रशासनिक) ने आरोपी इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि अब विभागीय इन्क्वायरी हो रही है.

यह भी पढ़ें: मुख्यमंत्री निरोग योजना जल्द होगी शुरू, बीपी, शुगर सहित कई रोगों की दवाएं ​मिलेंगी मुफ्त
Loading...
पांवटा में 33 वर्षीय महिला ने फंदे से झूलकर दे दी जान, पुलिस पड़ताल में जुटी

खबर का असर: चंबा से करियां मार्ग पर बने गड्ढों के मरम्मत का काम शुरू

सरकार पर सौतेले व्यवहार का आरोप लगा किसानों ने निकाली जन चेतना रैली
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर