5 साल पहले गिरा था मकान, आज तिरपाल के नीचे रहने को मजबूर गरीब परिवार

समाजसेवी संजय शर्मा ने कहा कि जब प्रदेश सरकार व प्रशासन ने मुख मोड़ने पर रिश्तेदारों ने वैकल्पिक तौर पर कुछ समय के लिए आशियाना दिया है, लेकिन यह पीड़ित परिवार के लिए स्थायी समाधान नहीं है.

Nitesh Saini | News18 Himachal Pradesh
Updated: September 11, 2019, 12:25 PM IST
5 साल पहले गिरा था मकान, आज तिरपाल के नीचे रहने को मजबूर गरीब परिवार
सुंदरनगर के परिवार के पास रहने को छत नहीं है.
Nitesh Saini
Nitesh Saini | News18 Himachal Pradesh
Updated: September 11, 2019, 12:25 PM IST
सुंदरनगर (मंडी): हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के जिला मंडी (Mandi) के उपमंडल सुंदरनगर में एक परिवार तिरपाल के नीचे रहने को मजबूर है. सुंदरनगर नगर (Sunder Nagar) परिषद के अंतर्गत वार्ड नंबर-7 बनायक में एक 4 सदस्यों का परिवार दो समय की रोटी और आशियानें के लिए मोहताज है.

समाजसेवी (Social Activist) संजय शर्मा ने कहा कि नगर परिषद सुंदरनगर के बनायक वार्ड में कर्म सिंह का परिवार के पास रहने के लिए मकान और खाने के लिए रोटी नहीं है. उन्होंने कहा कि इस वार्ड से नगर परिषद के उपाध्यक्ष ताल्लुक रखते हैं और स्थानीय विधायक (MLA) का यहां ससुराल है, लेकिन फिर भी इस परिवार को एक तिरपाल के नीचे जिंदगी बितानी पड़ रही है.

मिट्टी का मकान गिर गिया था
संजय शर्मा ने कहा 21वीं सदी में किसी परिवार को दो वक्त की रोटी भी नसीब नहीं होना शर्म की बात है. उन्होंने कहा की कर्म सिंह का मिट्टी का पुराना मकान (House) 5 साल पहले गिर गया, जिस कारण वे अपने दो दिव्यांग बच्चों और बीमार पत्नी के साथ एक तिरपाल के नीचे रहने को मजबूर हैं. उन्होंने कहा कि बारिश और तूफान की वजह से यह तिरपाल का आशियाना भी टूट गया.

सरकार-प्रशासन को 15 दिन का अल्टीमेटम
संजय शर्मा ने सरकार व प्रशासन को इस परिवार की दशा को सुधारने के लिए 15 दिन का अल्टीमेटम दिया है. उन्होंने कहा कि अगर प्रदेश सरकार व प्रशासन द्वारा इस परिवार के लिए कोई व्यवस्था नहीं बनाई गई तो वह अपने आप चंदा इकट्ठा कर इस परिवार के लिए दो कमरों के मकान का निर्माण करवाएंगे.

तिरपाल का आशियाना गिरा, रिश्तेदारों ने संभाला
Loading...

संजय शर्मा को इस परिवार की व्यथा के बारे में पता चला तो उन्होंने इनके रिश्तेदारों से संपर्क साधा. इसके उपरांत उन्होंने पीड़ित परिवार को रिश्तेदार के पास बल्ह उपमंडल के सोयरा में छोड़ा गया. संजय शर्मा ने कहा कि जब प्रदेश सरकार व प्रशासन ने मुख मोड़ने पर रिश्तेदारों ने वैकल्पिक तौर पर कुछ समय के लिए आशियाना दिया है, लेकिन यह पीड़ित परिवार के लिए स्थायी समाधान नहीं है.

ये भी पढ़ें: हिमाचल के BBN में फैला डायरिया, दो बच्चों की मौत, 45 उपचाराधीन

कौन हैं बंडारू दत्तात्रेय, जिन्होंने हिमाचल के 27वें राज्यपाल की शपथ ली

VIDEO: चालान कटने पर नशे में धुत हरियाणा पुलिस के जवान ने काटा बवाल

5 साल पहले गिरा था मकान, आज तिरपाल के नीचे रहने को मजबूर गरीब परिवार

मंडी में तीन दोस्तों संग खड्ड में नहाने उतरा 15 वर्षीय युवक डूबा, शव बरामद

दीवार तोड़कर टैक्सी पर चढ़ गई HRTC की बेकाबू बस, लोगों ने भागकर बचाई जान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 11, 2019, 11:49 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...