अपना शहर चुनें

States

Dharamshala News: चीन के खिलाफ निर्वासित तिब्बतियों का प्रदर्शन, बौद्ध भिक्षु की हत्या का विरोध

धर्मशाला में निर्वासित तिब्बती संगठन ने प्रदर्शन कर चीन की दमनकारी नीतिययों का विरोध किया.
धर्मशाला में निर्वासित तिब्बती संगठन ने प्रदर्शन कर चीन की दमनकारी नीतिययों का विरोध किया.

निर्वासित तिब्बती युवा संगठन ने धर्मशाला के मैक्लोडगंज (McLeod Ganj) में चीन के खिलाफ प्रदर्शन (Protest) किया. प्रदर्शनकारियों ने चीन (China) को अपनी दमनकारी नीतियों को सुधारने की चेतावनी दी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 26, 2021, 4:25 PM IST
  • Share this:
धर्मशाला. चीन (China) से निर्वासित तिब्बती युवा संगठन ने धर्मशाला के मैक्लोडगंज (McLeod Ganj) में चीन की दमनकारी नीतियों खिलाफ जोरदार प्रदर्शन (Protest) किया. प्रदर्शनकारियों ने चेताया कि चीनी नेता उनके कई निहत्थे और लाचार लोगों को अपना शिकार बना चुके हैं, जिनके बचाव के लिये उनके पास फिलहाल कोई हथियार तो नहीं है, लेकिन उन्हें बतौर शरणार्थी भारत समेत अन्य देशों में आंदोलन करके ही अपनी आवाज़ बुलंद करनी पड़ रही है. चीन सुधर जाए, वरना इसकी बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी.

हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला (Dharmashala News) में निर्वासितों की जिंदगी जी रहे तिब्बती आज भी अपने हक हुकूक और आजादी के लिये आये दिन कोई न कोई आंदोलन करते नजर आ जाते हैं. इस बार निर्वासित तिब्बती युवा संगठन ने धर्मशाला के मैक्लोडगंज में जोरदार आंदोलन किया गया. दरअसल इन युवा निर्वासित तिब्बतियों का आरोप है कि चीन सरकार ने चीन में उनके एक 19 साल के युवा बौद्ध भिक्षु को न केवल गिरफ्तार किया, बल्कि उसे चीन की जेल में बड़े ही निर्मम तरीके से प्रताड़ित किया गया. युवा तिब्बतियों का आरोप है कि चीन सरकार की प्रताड़ना के कारण ही युवा भिक्षु की मौत हो गई.





सुधर जाए चीन


निर्वासित तिब्बत के युवा संगठन के कार्यकर्ता और लेखक तेजनिन शुण्डु ने बताया कि चीन हमेशा ही अपनी दमनकारी नीतियों के लिये जाना जाता रहा है. चीन ने पहले तिब्बत, फिर ताइवान, हॉन्गकॉन्ग समेत कई पड़ोसी राज्यों के नाक में दम कर रखा है. आज अगर चीन की मुखालफत नहीं की गई और उसकी दमनकारी नीतियों को नहीं दबाया गया, तो वो दिन दूर नहीं जब वो अपने बलबूते हर देश को अपने कब्जे में कर लेगा. उन्होंने कहा कि चीन को सुधर जाना चाहिए, वरना भविष्य मे उसे बड़ी कीमत चुकानी होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज