Home /News /himachal-pradesh /

Earthquake in Himachal: हिमाचल में फिर हिली धरती, लाहौल-स्‍पीति में 2 बार आया भूकंप

Earthquake in Himachal: हिमाचल में फिर हिली धरती, लाहौल-स्‍पीति में 2 बार आया भूकंप

Earthquake in Lahaul-Spiti: लाहौल स्‍पीति में पहली बार रात 12: 29 बजे और दूसरी बार सुबह 2:22 बजे आया था भूकंप.

Earthquake in Lahaul-Spiti: लाहौल स्‍पीति में पहली बार रात 12: 29 बजे और दूसरी बार सुबह 2:22 बजे आया था भूकंप.

Earthquake in Himachal:हिमाचल प्रदेश के लाहौल-स्पीति (Lahaul-Spiti) में दो बार भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं. पहली बार रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 2.6 थी, तो कुछ घंटे बाद 2.6 तीव्रता का भूकंप आया. हालांकि भूकंप से अभी तक किसी तरह के जान-माल के नुकसान की खबर नहीं है. वैसे भूकंप को लेकर हिमाचल का चंबा, मंडी और शिमला सबसे संवेदनशील माने जाते हैं.

अधिक पढ़ें ...

    मनाली. हिमाचल प्रदेश के लाहौल-स्पीति (Lahaul-Spiti) में दो बार भूकंप (Earthquake) के झटके महसूस किए गए हैं. इनकी रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता क्रमश: 2.6 और 2.5 रही. हालांकि भूकंप से अभी तक किसी तरह के जान-माल के नुकसान की खबर नहीं है. वैसे भी यह भूकंप रात में आए थे, तो काफी लोगों को इसका पता ही नहीं चल सका. भारतीय मौमस विभाग ने भूकंप की पुष्टि की है.

    भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक, लाहौल स्‍पीति में दो बार भूकंप के झटके महसूस किए गए. पहली बार रात 12 बज कर 29 मिनट पर किन्नौर में भूकंप आया जिसकी तीव्रता 2.6 थी. इसका स्‍थान जिला मुख्‍यालय से 5 किलोमीटर गहराई पर नाको इलाके में था. इसके बाद सुबह 2 बज कर 22 मिनट पर एक बार फिर भूकंप के झटके लगे. इसकी तीव्रता 2.5 थी. वहीं, इसका केंद्र लाहौल-स्‍पीति से 10 किलोमीटर की गहराई पर धर चाओचोधन में था.

    जबकि पिछले साल 22 दिसंबर को मंडी में 3.4 तीव्रता का भूकंप आया था. यह झटके सुबह 6 बजकर 7 मिनट पर महसूस किए गए थे. यह भूकंप काफी तीव्र गति का था. गनीमत ये रही कि इसकी वजह से जान या माल का कोई भी नुकसान नहीं हुआ था. इससे पहले हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में तीव्रता 2.9 का भूकंप आया था. भूकंप का केंद्र जमीन से पांच किमी नीचे था. वहीं, हिमाचल प्रदेश में पिछले साल 24 नवंबर को चार बार भूंकप आया था. मंडी और शिमला में यह झटके लगे थे. खास बात है कि शिमला में लगातार तीन बार धरती हिली थी. हालांकि इस दौरान किसी भी तरह के जानमाल की हानि नहीं हुई थी.

    मंडी और शिमला संवेदनशील इलाके
    भूकंप को लेकर हिमाचल का चंबा, मंडी और शिमला सबसे संवेदनशील माने जाते हैं. ये जोन चार और पांच में शामिल हैं. जबकि चंबा जिले में हिमाचल में सबसे अधिक भूकंप आते हैं. कांगड़ा में 1905 में बड़ा भूकंप आया था. दावा किया जाता है कि 20 हजार लोगों की जान गई थी. वहीं, 1975 में किन्नौर जिले में भी बड़ा भूकंप हुआ था.

    Tags: Earthquake, Earthquake News, Himachal news, Lahaul Spiti

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर