ऊना: PGI निर्माण में देरी पर अनुराग ठाकुर नाराज, बोले- इससे लोगों को इलाज के लिए जाना पड़ता है चंडीगढ़

केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने ऊना पीजीआई के निर्माण में देरी पर नाराजगी जताई है.

केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने ऊना पीजीआई के निर्माण में देरी पर नाराजगी जताई है.

केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने लगाई PGI अधिकारियों की क्लास, ऊना पीजीआई सैटेलाइट सेंटर के निर्माण में देरी को लेकर जताई नाराजगी, आज पीजीआई अधिकारीयों और जिला प्रशासन के साथ ही वर्चुअल बैठक.

  • Share this:

ऊना. केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ( Anurag thakur ) ने आज जिला ऊना में निर्माणाधीन पीजीआई सैटेलाइट सेंटर (PGI satellite center) अस्पताल को लेकर अधिकारियों और जिला प्रशासन के साथ वर्चुअली समीक्षा बैठक की. इस दौरान अनुराग ठाकुर ने पीजीआई सेटेलाइट सेंटर के निर्माण को लेकर जहां फीडबैक लिया. वहीं निर्माण में देरी को लेकर पीजीआई के अधिकारियों को जमकर फटकार भी लगाई.

अनुराग ने पीजीआई के अधिकारीयों से पूछा कि शिलान्यास के बाद पीजीआई के अधिकारियों ने कितनी बार साइट का दौरा किया जिसके बाद पीजीआई के अधिकारियों ने चुप्पी साध ली. उन्होंने पीजीआई अस्पताल का निर्माण कार्य जल्द से जल्द पूरा करने के निर्देश भी दिए ताकि क्षेत्र के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिल सके. पीजीआई अस्पताल ऊना के निर्माण में हो रही देरी पर केंद्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट मामलों के राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने नाराजगी जताई है. उन्होंने पूछा कि मई 2019 में अस्पताल का शिलान्यास होने के बाद पीजीआई के अधिकारी कितनी बार ऊना गए. शिलान्यास होने के बाद अब तक स्पॉट पर निर्माण में क्या-क्या हुआ. बैठक के दौरान उनके तीखे सवालों पर पीजीआई के अधिकारियों ने चुप्पी साध ली.

बैठक में अनुराग ठाकुर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश के एक बहुत बड़े क्षेत्र के निवासियों को इस पीजीआई अस्पताल का लाभ मिलना है, लेकिन निर्माण में देरी की वजह से ऊना ही नहीं कई जिलों के निवासियों को अभी भी इलाज के लिए चंडीगढ़ जाना पड़ रहा है. अनुराग ठाकुर ने कहा कि पीजीआई तथा टेंडर प्राप्त करने वाली अपने प्रतिनिधियों को ऊना में तैनात करें, ताकि वह जिला प्रशासन के साथ निरंतर संपर्क में रहकर निर्माण कार्य में तेजी लाएं. उन्होंने बैठक में उपस्थित उपायुक्त ऊना राघव शर्मा को 15 दिन में एक बार पीजीआई के अधिकारी के साथ-साथ कंपनी के प्रतिनिधियों के साथ बैठक करने के निर्देश दिए.

बैठक में विशेष रूप से उपस्थित रहे छठे राज्य वित्त आयोग के सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि 450 करोड़ रुपए की लागत से ऊना में बनने वाले पीजीआई अस्पताल के निर्माण में राज्य सरकार अपना दायित्व निभा रही है. प्रदेश सरकार ने सड़क, बिजली व पानी जैसी सुविधाएं जुटाने के लिए 12.80 करोड़ रुपए का बजट प्रदान कर दिया है. उन्होंने कहा कि पीजीआई के अधिकारी बताएं, उन्हें राज्य सरकार व जिला प्रशासन से क्या सहयोग चाहिए, मैं उसे पूरा करने का दायित्व लूंगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज