हिमाचल: नमाज पढ़ने की जगह पर विवाद, हिन्दू संगठनों ने पढ़ी हनुमान चालीसा

टाहलीवाल नगर पंचायत की सार्वजनिक भूमि पर हर शुक्रवार को मुस्लिम वर्ग द्वारा नमाज अदा की जाती थी. ग्रामीणों का आरोप है कि सार्वजनिक भूमि पर स्थानीय मुस्लिम वर्ग के अलावा पंजाब, दिल्ली, हरियाणा व हिमाचल के अन्य हिस्सों मुस्लिम पहुंचते है, जिससे की क्षेत्र का माहौल खराब हो रहा है.

Amit Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 5, 2019, 4:03 PM IST
हिमाचल: नमाज पढ़ने की जगह पर विवाद, हिन्दू संगठनों ने पढ़ी हनुमान चालीसा
हिमाचल के ऊना में नमाज पढ़ने की जगह को लेकर विवाद हो गया है.
Amit Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 5, 2019, 4:03 PM IST
हिमाचल के ऊना की नगर पंचायत टाहलीवाल की सार्वजनिक भूमि पर नमाज अदा करने को लेकर विवाद हो गया है. शुक्रवार को विभिन्न हिन्दू संगठनों के कार्यकर्ताओं ने स्थानीय वाशिंदों के साथ मिलकर नमाज अदा करने वाले स्थल पर हनुमान चालीसा का पाठ किया. मामले की भनक लगते ही विवादित स्थल पर भारी पुलिस बल तैनात रहा. स्थानीय नगर पंचायत के सदस्यों और पुलिस ने मुस्लिम समुदाय से विवादित स्थल पर नमाज अदा ना करने की अपील की. इसके बाद मुस्लिम समुदाय के लोग सार्वजनिक स्थल पर नहीं पहुंचे और तनाव कम हुआ.

जय श्री राम के नारे लगाए
जानकारी के अनुसार, शुक्रवार सुबह विभिन्न हिंदू संगठनों के लोगों ने टाहलीवाल बाजार में एकत्रित होकर विवादित स्थल तक रोष रैली निकाली. भीड़ ने एक और जहां ‘जय श्री राम’, वीर बजरंगी, भारत माता की जय और वंदे मातरम् के उद्घोष लगाए. वहीं विवादित स्थल पर हनुमान चलीसा का पाठ किया. हिन्दू संगठनों ने मुस्लिम समुदाय की ओर से मौके पर लगाए टैंट के पोल भी उखाड़ फेंके. मामले की गंभीरता को देखते हुए सुबह से टाहलीवाल बाजार से लेकर विवाद स्थल तक भारी पुलिस बल तैनात किया गया था.

हर शुक्रवार को यहां पढ़ी जाती थी नमाज

टाहलीवाल नगर पंचायत की सार्वजनिक भूमि पर हर शुक्रवार को मुस्लिम वर्ग द्वारा नमाज अदा की जाती थी. ग्रामीणों का आरोप है कि सार्वजनिक भूमि पर स्थानीय मुस्लिम वर्ग के अलावा पंजाब, दिल्ली, हरियाणा व हिमाचल के अन्य हिस्सों मुस्लिम पहुंचते है, जिससे की क्षेत्र का माहौल खराब हो रहा है. ग्रामीणों का कहना है कि मामले को लेकर कई बार पंचायत व प्रशासन के आगे भी गुहार लगाई, लेकिन आज दिन तक किसी ने भी हमारी बात की ओर गौर नहीं किया. इस कारण अब मजबूरन विरोध करना पड़ा.

ज़बरन कब्जा करने का आरोप
हिन्दू संगठनों के नेताओं ने मुस्लिम समुदाय पर नगर पंचायत की भूमि पर ज़बरन कब्ज़ा कर नमाज पढ़ने और रास्ता रोके जाने का आरोप लगाया. यही नहीं, दूसरे समुदाय पर इलाके का माहौल खराब करने का आरोप भी जड़ा. हिन्दू संगठनों के नेताओं ने कहा कि हिमाचल को मेरठ, कैराना और बंगाल नहीं बनने दिया जायेगा. उन्होंने कहा कि हिंदू शुरू से ही धर्म निरपेक्ष रहा है. अगर कोई हमारी धर्म की अवमानना करेगा, तो हम सहन नहीं करेंगे.
Loading...

ये बोला मुस्लिम समुदाय
मुस्लिम समुदाय के एक प्रतिनिधि ने बताया कि मुस्लिम समुदाय 1984 से इस भूमि पर धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन करता आ रहा है. वर्ष 1986 में दौरान विभाग की खामियों के चलते इस भूमि को नगर पंचायत के अधीन कर दिया गया है, जिसकी दरुस्ती के लिए राजस्व विभाग धर्मशाला में केस डाला गया है. उन्होंने कहा कि जो भी कोर्ट का निर्णय होगा, वह मान्य होगा. उन्होंने कहा कि जब तक इस मसले का कोई हल नहीं निकलता, तब तक अपनी मलकियत पर बने स्थान पर ही नमाज अदा करेंगे. हरोली के तहसीलदार देवराज भटिया ने कहा कि नगर पंचायत टाहलीवाल के नंगल कलां में भूमि के विवाद की शिकायत को लेकर जांच की जा रही है.

ये भी पढ़ें: VIDEO:लिव-इन-रिलेशनशिप में रहने वाले प्रेमी की ‘छित्तर परेड’

बजट-19:पैट्रोल-डीजल पर सेस, हिमाचल उद्योग जगत बोला-गलत फैसला

हिमाचल: कांगड़ा के पौंग डैम में नहाने उतरे 7 दोस्त, 2 डूबे

किडनैपिंग-सुसाइड: कोटखाई गैंगरेप की तरह एक और ‘पेचीदा केस‘

PHOTOS: जब करगिल वॉर में भारतीय जवानों से मिलने पहुंचे मोदी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऊना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 5, 2019, 3:51 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...