हिमाचल: विदेशों की तर्ज पर चलेगा कोरोना जागरुकता अभियान, ड्रोन का होगा इस्तेमाल

अमेरिका जैसे देशों में ड्रोन से कोरोना जागरुकता अभियान चलाये जा रहे हैं.
अमेरिका जैसे देशों में ड्रोन से कोरोना जागरुकता अभियान चलाये जा रहे हैं.

ऊना एसपी अर्जित सेन ने बताया कि कोरोना (Corona) को देखते हुए हाईटेक जागरुकता अभियान के लिए दिल्ली से ड्रोन (Drone) मंगवाया गया है. इस प्रकार से ड्रोन का प्रयोग विदेशों में किया जाता है.

  • Share this:
ऊना. हिमाचल प्रदेश में कोरोना (Corona) के मामलों में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है. बावजूद इसके प्रदेश सरकार इसको लेकर किसी प्रकार की कोताही नहीं बरतना चाहती. अब लोगों को जागरूक करने के लिए पुलिस (Police) के माध्यम से हाईटेक जागरुकता अभियान चलाया जाएगा. विदेशों की तर्ज पर कोरोना जागरुकता अभियान चलाने का निर्णय लिया गया है.

जिलेवासियों को ड्रोन के माध्यम से सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेन करने, समय-समय पर हाथ धोने, हाथों को सेनेटाइज करने और मास्क के नियमित उपयोग की हिदायतें दी जाएंगी.

नवरात्र के अंतिम दिन होगी शुरुआत 



जिला के पुलिस कप्तान अर्जित सेन ठाकुर ने बताया कि इसको लेकर पुलिस ने तमाम औपचारिकताएं पूरी कर ली हैं. अभियान की शुरुआत मां चिंतपूर्णी मंदिर में चल रहे नवरात्र के अंतिम दिन की जाएगी.
ड्रोन के द्वारा मास्क लगाने का आह्वान अभी तक देश में कही भी नहीं किया गया है. ड्रोन से अमेरिका जैसे देशों में कोरोना जागरुकता अभियान चलाया जा रहा है. लेकिन अब ऊना में ड्रोन से लोगों को मॉस्क लगाने की अपील की जाएगी. अगर मास्क नहीं लगाया गया, तो पुलिस द्वारा कानूनी कार्रवाई की जाएगी. मास्क लगाने के साथ-साथ सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेन का भी आह्वान ड्रोन में लगे स्पीकर द्वारा किया जाएगा.

जिले में अब तक पुलिस द्वारा मास्क न पहनने वाले 6441 लोगों का चालान काटकर 16 लाख 10 हजार 950 रुपये जुर्माना वसूले गये हैं.

दिल्ली से मंगवाया गया ड्रोन 

एसपी अर्जित सेन ने बताया कि हाईटेक अभियान के लिए दिल्ली से ड्रोन मंगवाया गया है. इस प्रकार से ड्रोन का प्रयोग विदेशों में किया जाता है. उन्होंने कहा कि ड्रोन की मदद से भीड़भाड़ वाले इलाके में लोगों को मॉस्क लगाने के लिए प्रेरित किया जाएगा. इसकी शुरुआत चिंतपूर्णी मंदिर में चल रहे नवरात्र के अंतिम दिन की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज