लाइव टीवी

तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा ने भारत में आजादी पर दिया ये बड़ा बयान

एएनआई
Updated: October 14, 2019, 1:44 AM IST
तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा ने भारत में आजादी पर दिया ये बड़ा बयान
दलाई लामा. (फाइल फोटो)

दलाईलामा (Dalai Lama) ने भारत (India) में आजादी को लेकर कहा कि तिब्बती (Tibetan) भारत में शरणार्थी (Refugees) के रूप में रह रहे हैं. इसके बाद भी 60 वर्षों में हमने भारत की आजादी (Freedom) का आनंद लिया है.

  • Share this:
ऊना. तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा ने भारत में आजादी पर एक बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि एक तरफ तो तिब्बती भारत में शरणार्थी के रूप में रह रहे हैं वहीं 60 वर्षों में हमने भारत की आजादी का आनंद लिया है. उन्होंने कहा कि वर्ष 2001 में उन्होंने राजनीतिक फैसलों से स्वयं को अलग कर लिया था और भारत में रहने वाले मुट्ठी भर तिब्बती शरणार्थियों ने लोकतांत्रिक व्यवस्था को अपनाया है.

आज तिब्बतियों की चुनी हुई सरकार सभी जिम्मेदारियों का निर्वहन कर रही है. हिमाचल में दलाई लामा के ऊना पहुंचने पर उपायुक्त संदीप कुमार ने धर्मगुरु स्वागत किया. यहां से वह चंड़ीगढ़ के लिए जा रहे थे.

भारत-चीन के अच्छे रिश्तों की कही थी बात
बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की मुलाकात पर दलाई लामा ने कहा था कि दोनों देशों के बाच अच्छे संबंध होने जरूरी हैं. उन्होंने कहा कि भारत और चीन दोनों देशों की सभ्यताएं बहुत पुरानी है इसलिए दोनों देशों में अच्छे रिश्ते होने जरूरी हैं. दलाईलामा चंडीगढ़ जाते समय ऊना सर्किट हाउस में रुके थे.

इस दौरान तिब्बत की आजादी पर पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि वर्ष 1974 में हमने तय किया था कि चीन से आजादी की मांग नहीं करेंगे. चीन में रहते हुए तिब्बती सिर्फ अपनी संस्कृति के संरक्षण के लिए कुछ अधिकारों की मांग कर रहे हैं.

दलाई लामा ने कहा कि हम तिब्बती नालंदा दर्शन का अनुसरण कर रहे हैं और नालंदा दर्शन तर्क पर आधारित है. आज चीनी बुद्धिजीवी भी मानते हैं कि तिब्बती बौद्ध धर्म पौराणिक नालंदा परंपरा के अनुसार है जो पूरी तरह से विज्ञान पर आधारित है. इन बौद्ध शिक्षाओं को आधुनिक शिक्षा के साथ पढ़ाया जा सकता है.

ये भी पढ़ें- दलाई लामा बोले- भारत से कभी नहीं जीत सकता पाकिस्तान, बेहतर है दोस्ती बनाए रखें इमरान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऊना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 1:44 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...