ऊना: सब्सिडी के नाम पर पॉलीहाउस निर्माण में फर्जीवाड़ा, पूर्व बैंक प्रबंधक सहित 3 गिरफ्तार
Una News in Hindi

ऊना: सब्सिडी के नाम पर पॉलीहाउस निर्माण में फर्जीवाड़ा, पूर्व बैंक प्रबंधक सहित 3 गिरफ्तार
पॉलीहाउस का निर्माण न करके सब्सिडी ड्रा कर उसे डकार लिया गया. (सांकेतिक तस्वीर)

स्टेट विजीलेंस एंड एंटी क्रप्शन ब्यूरो ऊना के एएसपी सागर चंद्र ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जिन्हे शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया जायेगा.

  • Share this:
ऊना. पंडित दीन दयाल किसान बागवान समृद्धि योजना के तहत पॉलीहाउस (Polyhouse) की आड़ में हुए फर्जीवाड़े का ऊना विजिलेंस टीम ने पटाक्षेप कर दिया है. विजिलेंस की टीम ने कांगड़ा बैंक की सेवानिवृत शाखा प्रबंधक सहित तीन लोगों को गिरफ्तार (arrest) कर लिया है. विजिलेंस (Vigilance) आरोपियों को शुक्रवार को कोर्ट में पेश करेगी. तीनों आरोपियों पर पॉलीहाउस के नाम पर लेने के बाबजूद भी पॉलीहाउस का निर्माण न करके सब्सिडी (Subcidy) ड्रा कर उसे डकार लिया गया. उम्मीद जताई जा रही है कि आने वाले दिनों में इस मामले में कई खुलासे होंगे.

जानकारी के अनुसार, धूमल सरकार के कार्यकाल में प्रदेश के किसानों व बागबानों के लिए पंडित दीन दयाल किसान-बागबान समृद्धि योजना शुभारंभ किया गया था. योजना के तहत पालीहाउस निर्माण के लिए अस्सी प्रतिशत अनुदान का प्रावधान था. उपमंडल गगरेट के ही एक व्यक्ति ने पालीहाउस निर्माण के लिए अपनी एक फर्म तैयार की और उस फर्म के माध्यम से पालीहाउस निर्माण के लिए लोगों को प्रेरित किया गया.

विजिलेंस का दावा



स्टेट विजीलेंस एंड एंटी क्रप्शन ब्यूरो का दावा है कि उक्त फर्म द्वारा दो-चार पॉलीहाउस निर्माण के बाद उन्हीं पॉलीहाउस की तस्वीर अन्य कई केसों में लगाकर केस अप्रूव करवा लिए. अलबत्ता पॉलीहाउस निर्माण के नाम पर सब्सिडी ड्रा कर उसे डकार लिया गया गया. इस मामले में कई लोगों को चूना लगाया गया। जिन लोगों के केस अप्रूव करवाए, उन्हें पता ही नहीं चला कि कब उनके नाम का केस अप्रूव हो गया और कब उनके खाते में आई सब्सिडी को डकार लिया गया. जब बैंक की ओर से उन्हें नोटिस जाने लगे तब इस धोखाधड़ी का खुलासा हुआ.
लोगों को नोटिस मिले तो खुलासा

उसके बाद कुछ लोग प्रदेश उच्च न्यायालय भी गए तो कई लोगों ने अंब न्यायालय के दरवाजे भी खटखटाए. यहां तक कि कुछ लोगों ने गगरेट पुलिस के पास भी तहरीर दी लेकिन किसी को न्याय नहीं मिला. मामला जनता दरबार में भी उठाया गया और एक शिकायत स्टेट विजीलेंस एंड एंटी क्रप्शन ब्यूरो के पास भी पहुंची. ब्यूरो ने जब पड़ताल शुरू की तो कई चौंकाने वाले खुलासे हुए. ये शातिर तीन तरह से लोगों को बेवकूफ बनाकर ठगते रहे.

बैंक से लोन भी पास करवाए

पॉलीहाउस निर्माण के नाम पर केसीसीबी से सीधे लोन भी पास करवा लिए गए. स्टेट विजीलेंस एंड एंटी क्रप्शन ब्यूरो की पड़ताल में पॉलीहाउस निर्माण करने वाली कथित फर्म का मालिक, उसका एक साथी व केसीसीबी की सेवानिवृत शाखा प्रबंधक कार्रवाई के घेरे में आई. गुरुवार को केसीसीबी की गगरेट शाखा में पहुंची विजीलेंस की टीम ने इस मामले से संबंधित रिकार्ड कब्जे में लेने के साथ तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया. स्टेट विजीलेंस एंड एंटी क्रप्शन ब्यूरो ऊना के एएसपी सागर चंद्र ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जिन्हे शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया जायेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading