जानें, ग्रामीण विकास मंत्री के विधानसभा क्षेत्र के गांव की बदहाली

ग्रामीण विकास मंत्री वीरेंद्र कंवर (Virender Kanwar) की मानें तो हटली से खड़ोल तक प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत सड़क का निर्माण हुआ था. वहीँ इस सड़क की अपग्रेडेशन के लिए 9 करोड़ की राशि स्वीकृत हुई है और जल्द ही इसका काम शुरू हो जायेगा.

Amit Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 28, 2019, 4:04 PM IST
जानें, ग्रामीण विकास मंत्री के विधानसभा क्षेत्र के गांव की बदहाली
गांव में सड़क नहीं है, इसलिए मरीजों पर ऐसे ले जाना पड़ता है.
Amit Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 28, 2019, 4:04 PM IST
अक्सर सरकारें और राजनेता गांव और गरीब की सेवा के बड़े-बड़े दावे करते हैं, लेकिन यह दावे हिमाचल प्रदेश के ऊना (Una) जिले से ग्रामीण विकास मंत्री वीरेंद्र कंवर  (Virender Kanwar) के गृह विधानसभा क्षेत्र की ही ग्राम पंचायत करमाली के गांव निचली खडोल में खोखले साबित हो रहे है. वर्षों से मात्र डेढ़ किलोमीटर सड़क को तरस रहे खडोल वासियों में से समय पर उपचार न मिल पाने के लिए एक माँ के नवजात बच्चे ने और किसी के भाई ने दम तोड़ दिया.

बरसात में तो खड़ोल के बाशिंदें नारकीय जीवन जीने को मजबूर हो जाते है, जहाँ तक अगर कोई बीमार हो जाये तो उन्हें चारपाई पर डालकर मुख्य सड़क तक पहुंचाना पड़ता है. नौकरी-पेशे वालों को और छात्रों को स्कूल पहुंचना भी मुश्किल हो जाता है. जहाँ ग्रामीणों ने गांववासियों को सड़क सुविधा मुहैया करवाने की मांग उठाई है, वहीँ कैबिनेट मंत्री वीरेंद्र कंवर जल्द ही सड़क के निर्माण का दावा किया है।

मुख्य मार्ग से नहीं जुड़ा गांव
उपमंडल बंगाणा की ग्राम पंचायत करमाली के निचली खड़ोल में सड़क सुविधा नहीं है. प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत, सबसे पहली सड़क हटली से खड़ोल इसी क्षेत्र में बनी थी और निचली खडोल गाँव इसी सड़क से मात्र डेढ़ किलोमीटर की दूरी पर है, जिसका आज दिन तक निर्माण नहीं हो पाया. लोकसभा चुनावों से पहले स्थानीय विधायक और ग्रामीण विकास मंत्री वीरेंद्र कंवर ने इस सड़क का भूमि पूजन तो कर दिया था, लेकिन सड़क का काम आज दिन तक नहीं हो पाया.

बीमारों को चारपाई पर ले जाते हैं
सड़क सुविधा न हो पाने के कारण गांव में अन्य वाहनों का पहुंच पाना तो एक तरफ है, एंबुलेंस भी नहीं पहुँच पाती है. बीमारों को चारपाई पर उठाकर डेढ़ किलोमीटर का रास्ता तय कर मुख्य सड़क तक लाना पड़ता है, जिससे अक्सर बीमारों को समय पर स्वास्थ्य सुविधाएँ भी नहीं मिल पाती है. समय पर उपचार ना मिल पाने के कारण कुछ दिन पहले ही एक गर्भवती महिला ने अपने नवजात बच्चे को खो दिया. वहीँ, पिछले साल ही समय पर अस्पताल न पहुँच पाने के कारण भी एक व्यक्ति ने दम तोड़ दिया था. ग्रामीणों की मानें तो हमारे साथ जो हुआ सो हुआ, लेकिन सड़क की कमी के चलते कोई और मौत का ग्रास न बने इसके लिए सरकार शीघ्र इस सड़क का निर्माण करवाए.

कोई सुध नहीं लेता है: ग्रामीण
Loading...

लोगों का कहना है कि ऐसा नहीं है कि किसी अधिकारी या नेता तक मांग नहीं उठाई. अक्सर चुनावों में नेता इस गाँव में आते है और सड़क बनाने का दावा करके वोट ले, दोबारा इनकी सुध नहीं लेते है. स्थानीय लोगों की माने तो बरसात में बच्चो का स्कूल जाना और नौकरी पेशे वालों का काम पर जाना बहुत मुश्किल होता है. ग्रामीणों ने सरकार से उनकी सुध लेने की मांग उठाई है.

यह बोले मंत्री
ग्रामीण विकास मंत्री वीरेंद्र कंवर की मानें तो हटली से खड़ोल तक प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत सड़क का निर्माण हुआ था. वहीँ इस सड़क की अपग्रेडेशन के लिए 9 करोड़ की राशि स्वीकृत हुई है और जल्द ही इसका काम शुरू हो जाएगा.

ये भी पढ़ें: ‘गलत HIV रिपोर्ट’ के बाद सदमे से महिला की मौत की होगी जांच

हिमाचल के कसौली एयरफोर्स स्टेशन में जवान ने की खुदकुशी

34 साल पहले कसौली बैंक डकैती केस में दोषी पुलिसकर्मी को सजा

4 दिन लापता नाबालिग मिली, रेप के आरोप में पिता गिरफ्तार

OMG!टूटी सड़क पर पाइपों के जरिये गुजारी कार, वायरल हुआ VIDEO

रिज पर दरारें: 2015 में बनाया था रिपेयरिंग प्रपोज़ल,लेकिन...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऊना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 28, 2019, 3:24 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...