हिमाचल का सबसे लंबा पुल किसानों के लिए बना सिरदर्द, चहेतों को पहुंचाया ‘लाभ’

हिमाचल के ऊना में बना सूबे का सबसे लंबा पुल.

जानकारी के अनुसार, स्वां खड्ड पर पुल बनाया गया है. पुल की लंबाई 773 मीटर है. यह प्रदेश का सबसे लंबा पुल होगा. इस पुल के कुल 19 स्पैन बनाए गए हैं. इसकी चौड़ाई 10 मीटर है.

  • Share this:
हिमाचल प्रदेश के ऊना में हरौली में बनाया गया सूबे का सबसे लंबा रामपुर-हरोली पुल हरोली विधानसभा क्षेत्र के चार गांव के किसानों के लिए परेशानी का सबब बन गया है. ग्रामीणों ने बरसात से पहले पानी की निकासी का प्रबंध करने की मांग उठाई है. ग्रामीणों की शिकायत के बाद डीसी ऊना ने प्रशासनिक अमले के साथ मौका का निरीक्षण किया और समस्या के शीघ्र समाधान का आश्वासन दिया. प्रदेश भाजपा के प्रवक्ता प्रो. राम कुमार ने नेता विपक्ष पर अपने चहेतों को लाभ पहुंचाने के लिए पुल निर्माण के समय बरसाती पानी की निकासी की व्यवस्था न करने का आरोप जड़ा है.

ये है मामला
ऊना में हरोली-रामपुर पुल बनने के बाद हरोली विस क्षेत्र के कांगड़, समनाल, रोडा व सैंसोवाल गांव में बरसात के दिनों में किसानों के खेतों में पानी खड़ा होने लगा, जिससे किसानों की फसल पूरी तरह बर्बाद हो रही है। सबसे ज्यादा नुक्सान बरसात के दिनों में होता है. ग्रामीणों का आरोप है कि पुल बनाते समय पानी गुजरने के लिए कोई पुलियां नहीं बनाई गई, जिससे सारा पानी खेतों में खड़ा हो जाता है.

निर्माण के दौरान किया था विरोध
ग्रामीणों का कहना है कि पुल बनाते समय भी विरोध किया गया था, लेकिन तब हमारी किसी ने एक न सुनी. ग्रामीणों ने बताया कि पिछले वर्ष सिंतबर माह में जब स्वां नदीं में पानी आया था, तो पुल के समीप पानी एकत्रित हो गया था, जिससे किसानो की फसस बर्बाद हो गई थी. पिछली बरसात में किसानों की करीब 8 से 10 करोड़ की फसल बर्बाद हो गई थी.

डीसी पहुंचे मौके पर
हिमाचल प्रदेश भाजपा प्रवक्ता प्रो. राम कुमार ग्रामीणों की समस्या को लेकर ग्रामीणों संग मौके पर पहुंचे और निरीक्षण किया. इस दौरान मौके पर पहुंचे डीसी सहित अन्य अधिकारियों ने मौके का जायजा लिया और जल्द ग्रामीणों की समस्या हल करने की बात कही. भाजपा नेता ने कहा कि कि कांग्रेसी नेता को फायदा देने के लिए पुलियों का निर्माण नहीं किया, जिससे ग्रामीण परेशान है.

773 मीटर लंबा है पुलिस
जानकारी के अनुसार, स्वां खड्ड पर पुल बनाया गया है. पुल की लंबाई 773 मीटर है. यह प्रदेश का सबसे लंबा पुल होगा. इस पुल के कुल 19 स्पैन बनाए गए हैं. इसकी चौड़ाई 10 मीटर है. इस पुल पर पैदल चलने वाले राहगीरों के लिए दोनों ओर डेढ़ मीटर का रास्ता बनाया गया है. ख़ास बात यह है कि पुल की डीपीआर 56 करोड़ रुपए थी, लेकिन यह 33 करोड़ में बना है.

ये भी पढ़ें: नशे पर ढील! चौकी प्रभारी सस्पेंड, 11 पुलिसवालों को नोटिस

हिमाचल में 200 करोड़ रुपये निवेश करेगा महिंद्रा ग्रुप

लेह-टू-शिमला: 15 देश, 45 लोग और ऑटो में 720 किमी का सफर

कुल्लू बस हादसा: PGI में युवती की मौत, अब तक 46 मौतें

घायल महिलाओं को अस्पताल ले जा रही एंबुलेंस का रास्ता रोका

सुर्खियां: रेप केस में 70 वर्षीय ससुर को बेल, चिट्टा बरामद
First published: