फल-सब्जी विक्रेताओं की मनमानी, अपने आदेशों को लागू करवाने में प्रशासन नाकाम

एसडीएम ऊना का कहना है कि प्रशासन रेट लिस्ट न लगाने वालों के खिलाफ प्रशासन लगातार कार्रवाई कर रहा है.

Amit Sharma
Updated: April 17, 2018, 2:17 PM IST
फल-सब्जी विक्रेताओं की मनमानी, अपने आदेशों को लागू करवाने में प्रशासन नाकाम
Vegetable vendors in Una.
Amit Sharma
Updated: April 17, 2018, 2:17 PM IST
हिमाचल प्रदेश के ऊना में फल व सब्जी विक्रेताओं की मनमानी थमने का नाम नहीं ले रही है. प्रशासन ने इन्हें रेट लिस्ट डिस्प्ले करने के निर्देश दिए हैं, लेकिन यह विक्रेता प्रशासन की नाक के तले ही आदेशों की धज्जियां उड़ा रहे हैं.

जब जिला मुख्यालय पर ही फल व सब्जी विक्रेता रेट लिस्ट ना लगाकर लोगों से मनमाने दाम वसूल रहे हैं, तो जिला के अन्य क्षेत्रों में क्या हाल होगा, इसे आप भी बखूबी समझ सकते है.

इस वजह से लोग महंगी सब्जियां व फल खरीदने को विवश हैं. ऐसा नहीं है कि यह हमेशा ही रेट लिस्ट नहीं लगाते हैं. प्रशासन और विभाग की कार्रवाई होने के बाद एक दो दिन तक सभी दुकानों और रेहड़ियों पर रेट लिस्ट लगाई जाती है, लेकिन बाद में फिर गायब हो जाती है.

NEWS-18 की टीम ने ऊना शहर में फल-सब्जियों की दुकानों और रेहड़ियों का रूख किया तो पाया कि किसी ने भी रेट लिस्ट नहीं लगाई है. अगर जिला के मुख्यालय पर ही यह हाल है तो जिला के अन्य इलाकों में प्रशासन के आदेशों की कहां पालना हो रही होगी?

जब इस बारे में NEWS-18 की टीम ने विक्रेताओं से पूछा तो वे बहाने लगाते नजर आए.

वहीं, एसडीएम ऊना का कहना है कि प्रशासन रेट लिस्ट न लगाने वालों के खिलाफ प्रशासन लगातार कार्रवाई कर रहा है. एसडीएम ने कहा कि शीघ्र ही इस मामले को लेकर एक मुहिम चलाई जाएगी, ताकि लोगों को सही दाम पर फल और सब्जियां मिल सके.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर